मौत से मुलाक़ात ने बनाया अरबपति कारोबारी

  • 19 अगस्त 2013
पीटर ब्रोंसमैन ने अपने जीवन की दिशा बदलते हुए कारोबार की ओर रुख किया और कामयाब हुए.

पीटर ब्रोंसमैन ने करीब 26 साल पहले उस समय मौत को एकदम नज़दीक से देखा जब वो दक्षिणी चीन सागर में एक मालवाहक जलयान से समुद्र में जा गिरे.

लेकिन ज़िंदगी और मौत के बीच कुछ सेंकेड के उस फ़ासले ने उनके भीतर ऐसा जज़्बा भरा कि आज वह सेब की शराब बनाने वाले अरबपति कारोबारी बन चुके हैं.

आधी रात के समय तमुद्र में गिरने वाले स्वीडन के पीटर की उस वक्त उम्र 24 साल थी. गिरते ही उनका हाथ टूट गया. वह मालवाहक जहाज में नाविक थे.

वह किसी तरह कचरे की प्लास्टिक की बोरी से चिपक कर लहरों से मुकाबला करते रहे.

पीटर ब्रोंसमैन बताते हैं कि, “सबकुछ एकदम अचानक से हो गया. मुझे कचरे से भरे कुछ बोरों को पानी में फेंकने के लिए कहा गया था, लेकिन किसी तरह मेरा पैर फिसल गया और मैं भी उनके साथ चला गया.”

उन्होंने बताया कि, “अचानक मैं समुद्र में था और जहाज़ ग़ायब हो चुका था. वहाँ घना अंधेरा था, और सिर्फ एक बांह के सहारे तैरना आसान नहीं था.”

होगा ऐसा बॉस तभी बनेगी बात

किस्मत का खेल

वह आगे बताते हैं कि, “मैंने अपने सही हाथ से एक बोरे को कस कर पकड़ लिया और ज़ोर से चिल्लाने लगा. लेकिन वहां सिर्फ मैं था और मीलों फैला समुद्र. मैं सोच रहा था कि मुझे मरना नहीं चाहिए, और अगर मैं बच गया तो मैं अपना कारोबार शुरू करूंगा.”

ब्रोंसमैन की किस्मत अच्छी थी. उनके एक साथी ने उन्हें गिरते हुए देख लिया था. करीब दो घंटे बाद उन्हें बचा लिया गया.

ब्रोंसमैन ने तत्काल समुद्र की ज़िंदगी को छोड़ दिया. वह 1987 में स्वीडन के शहर गोटेबर्ग लौट गए और अपनी कंपनी शुरू करने की तैयारी में जुट गए.

वह और उनके भाई डैन-एंडर्स बियर के काफ़ी शौकीन थे. ऐसे में उन्होंने दुनिया भर से बियर के प्रमुख ब्रांडों का आयात शुरू किया.

कारोबार जल्द ही कामयाबी के शिखर छूने लगा. स्वीडन के लाइसेंस नियमों के तहत वह सिर्फ एक कंपनी सिस्टमबोलागेट को ही शराब बेच सकते थे, जो वहां की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी थी.

बार सिंगर से 'आशिक़ी' तक का सफर

कामयाबी का सफर

कूपरबर्ग युवाओं के बीच बेहद लोकप्रिय है.

ब्रोंसमैन ने बताया, “सरकार के साथ काम करना अच्छा था. लेकिन मैंने अपने भाई (जो कारोबार में उनकी मदद कर रहा था) से कहा कि अधिक मुनाफ़े के लिए हमें ख़ुद ही शराब बनानी होगी.”

अभी तक हुए मुनाफ़े और बैंक से कर्ज़ लेकर ब्रोंसमैन ने 1994 में 6.2 लाख डॉलर में कूपरबर्ग में एक पुरानी शराब की भट्टी खरीद ली. उन्होंने कूपरबर्ग ब्रांड नाम से साइडर (सेब से बनी शराब) तैयार की. इसके साथ ही उन्होंने इसका नाशपाती और मिक्स्ड फूड संस्करण भी तैयार किया.

जल्दी ही इस शराब की बिक्री स्वीडन में काफी बढ़ गई और साइडर का बड़े स्तर पर निर्यात किया जाने लगा.

स्वीडन में शराब का विज्ञापन और प्रचार प्रतिबंधित था. इसलिए उन्होंने एक नायाब तरीका खोज निकाला.

ब्रिटेन: क्यों बढ़ रही हैं महिलाओं की मौत

अनोखा अंदाज़

ब्रिटेन में सबसे ज्यादा बिकने वाली शराब में कूपरबर्ग शामिल है.

उन्होंने बताया, “हम स्वीडन में कूपरबर्ग के प्रचार के लिए कुछ नहीं कर सकते थे, इसलिए मैंने सोचा कि स्वीडनवासी भूमध्यसागर में गर्मियों की छुट्टियाँ बिताने जाते हैं तो क्यों न वहाँ चला जाए. ”

वहां उन्होंने बड़े स्तर पर मुफ़्त सैंपल बांटे और नतीजा शानदार रहा. लोगों ने साइडर को काफी पसंद किया और उनके लौटने पर घरेलू बाजार में भी बिक्री बढ़ गई .

उन्होंने बताया कि, “ठीक उसी समय दूसरे देशों के लोग भी छुट्टियाँ मनाने के लिए भूमध्यसागर आए थे. उन्होंने भी साइडर को पसंद किया, खासतौर से ब्रिटिश लोगों ने. इसका भी फायदा मिला.”

आज कूपरबर्ग ब्रेवरीज स्वीडन की सबसे बड़ी शराब निर्माता कंपनी है और पिछले साल उसने 7.5 करोड़ लीटर साइडर तैयार की थी. इस समय कूपरबर्ग को 50 से अधिक देशों में निर्यात किया जाता है.

ब्रोंसमैन बताते हैं कि पिछले 25 वर्षों के दौरान उनकी खुशी का स्तर कभी कम नहीं हुआ. साथ ही वह कहते हैं कि “और मुझे उम्मीद है कि मेरा सफ़र अभी जारी है क्योंकि अभी भी कूपरबर्ग में काफ़ी कुछ करने के लिए है.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार