विहिप परिक्रमा पर अड़ा, अयोध्या किले में बदला

बाबरी मस्जिद, अयोध्या

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद की प्रस्तावित "84-कोसी परिक्रमा" को लेकर विहिप और राज्य सरकार के बीच तनातनी का माहौल जारी है.

इस बीच फ़ैज़ाबाद के जिला प्रशासन ने विहिप के राष्ट्रीय और राज्य स्तर के 70 वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ़ गिरफ़्तारी वारंट जारी कर दिया है. जिन नेताओं के ख़िलाफ़ गिरफ्तारी वारंट जारी किए गए हैं, उनमें विहिप के अशोक सिंघल, प्रवीण तोगड़िया और राम विलास वेदांती जैसे नाम शामिल हैं.

राज्य सरकार ने विहिप की अयोध्या में प्रस्तावित "84-कोसी परिक्रमा" पर रोक लगा दी है. विश्व हिंदू परिषद ने इसे 25 अगस्त से शुरू करने की घोषणा की थी लेकिन सरकार की रोक के बावजूद उसके नेता परिक्रमा को जारी रखने को लेकर लेकर अड़े हुए हैं.

मंदिर मस्जिद से बड़ा सवाल

विहिप के साथ कड़े संघर्ष की आशंका को भाँपते हुए राज्य सरकार ने फ़ैज़ाबाद और अयोध्या के जुड़वाँ शहरों में सुरक्षा बलों को व्यापक पैमाने पर तैनात कर रखा है.

राज्य सरकार की रोक के बावजूद विहिप के अपने रवैए पर अड़े रहने के कारण फ़ैज़ाबाद के ज़िला प्रशासन ने विहिप से सख़्ती से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर ली है.

विहिप अड़ा

फ़ैज़ाबाद के जिलाधिकारी विपिन कुमार द्विवेदी ने बताया, "परिक्रमा में भाग लेने के लिए आने वाले विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता अगर अयोध्या पहुँच जाते हैं तो उन्हें गिरफ़्तार करने के लिए शहर के बस स्टैंड और रेलवे स्टेशनों पर भारी संख्या में पुलिस बल मजिस्ट्रेट के साथ तैनात किए गए हैं."

उन्होंने कहा कि गिरफ़्तार किए जाने वाले विहिप कार्यकर्ताओं को हिरासत में रखने के लिए ज़िले के अलग अलग जगहों पर अस्थायी जेल बनाई गई हैं.

राम के नाम पर

दंगे जैसे हालात से निपटने के लिए विशेष सुरक्षा बल तैनात हैं, जो ज़रूरत पड़ने पर आँसू गैस के गोले छोड़ सकेंगे, पानी की बौछार कर सकेंगे या रबर से बनी गोलियाँ चला सकते हैं.

विहिप ने राज्य सरकार के व्यापक सुरक्षा इंतजामों से उलझने की अपनी मंशा साफ़ कर दी है.

छापेमारी अभियान

स्थानीय प्रशासन को उम्मीद है कि विहिप के 40 से 50 हज़ार कार्यकर्ता परिक्रमा में भाग लेने के लिए अयोध्या आ सकते हैं.

मोदी नहीं जाएँगे अयोध्या

पुलिस के कई दस्ते विहिप नेताओं को गिरफ़्तार करने के लिए उनके छुपने की कई जगहों पर छापेमारी अभियान चला रहे हैं.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि विहिप के तकरीबन 20 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने में उन्हें कामयाबी मिली है. हालांकि राम विलास वेदांती जैसे कुछ वरिष्ठ नेता भूमिगत हो गए हैं.

शुक्रवार को फ़ैज़ाबाद जिला प्रशासन ने विश्व हिंदू परिषद के प्रमुख अशोक सिंघल के प्रवेश पर रोक लगा दी है. वे अयोध्या से इलाहाबाद आ रहे थे.

सीमाएँ सील

फ़ैज़ाबाद के जिलाधिकारी विपिन कुमार द्विवेदी ने बताया कि सुरक्षा बलों की भारी तादाद फ़ैज़ाबाद पहुँच गई है. इसमें पर्याप्त संख्या में अर्ध सैनिक बल भी हैं. ज़मीन पर किसी भी हालात से निपटने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी संख्या में पुलिस अफ़सर तैनात किए हैं.

हिंदू हूँ, राष्ट्रवादी हूँ

उन्होंने कहा, "अगर कानून व्यवस्था बनाए रखने के दौरान कोई हताहत होता है तो ऐसी स्थिति से निपटने के लिए मैंने स्वास्थ्य विभाग को पूरी तरह से तैयार रहने के लिए कहा है."

विपिन कुमार द्विवेदी कहते हैं, "ज़िले की सीमाएँ सील करने का आदेश दिया गया है. अलग अलग स्थानों पर कई अवरोध खड़े किए गए हैं. सभी प्रवेश मार्गों पर खड़े किए अवरोध उप ज़िलाधिकारियों और पुलिस के सर्किल अफसरों की सीधी निगरानी में रहेंगे. मैंने सभी अफसरों को चेतावनी दी है कि अगर विश्व हिंदू परिषद का कार्यकर्ता सीमा पार करने में कामयाब हुआ तो ज़िम्मेदार अफ़सर बर्ख़ास्त कर दिए जाएंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार