आसाराम बापू देश ना छोड़ें: जोधपुर पुलिस

Image caption आसाराम बापू यौन उत्पीड़न के आरोपों से इंकार करते रहे हैं.

अपने एक साधक की नाबालिग बेटी का कथित रूप से यौन उत्पीड़न करने के आरोपों से घिरे धार्मिक गुरु आसाराम बापू ने पुलिस का समन स्वीकार कर लिया है. इंदौर में जोधपुर पुलिस ने उन्हें नोटिस थमाया.

पुलिस ने आसाराम को 30 अगस्त को जोधपुर में रहने को कहा है.

इस बीच पुलिस उन्हें देश न छोड़ने के लिए नोटिस जारी कर दिया है.

जोधपुर पुलिस की एक टीम ने आसाराम को ये नोटिस मंगलवार को इंदौर में उस समय थमाया जब वे आश्रम में अपने भक्तों से घिरे थे.

सहयोग का वादा

पुलिस के मुताबिक आसाराम ने पूछताछ में सहयोग का वादा किया है. जोधपुर के पुलिस उपायुक्त अजयपाल लाम्बा ने बताया कि आसाराम को 30 अगस्त को जोधपुर में पुलिस के सामने हाजिर होने को कहा गया है.

यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली लड़की के मुताबिक आसाराम ने विशेष अनुष्ठान के नाम पर 15 अगस्त को जोधपुर के निकट एक आश्रम में उसके साथ यौन दुर्व्यवहार किया.

लेकिन आसाराम इन आरोपों से इनकार करते हैं.

पुलिस ने पीड़िता और उसके परिजनों के बयान दर्ज कर लिए हैं और लड़की का मेडिकल परीक्षण भी करवाया गया है.

मंगलवार को समाचार चैनल एबीपी न्यूज से बातचीत में आसाराम बापू ने इन सभी आरोपों को गलत बताते हुए कहा "पूरे मामले में साजिश की गई है. मामले की जांच से पूरी सच्चाई सामने आ जाएगी. मेरे खिलाफ कोई सबूत नहीं है."

पूछताछ

Image caption भीड़ की वजह से पुलिस को नोटिस तालीम कराने में मशक्कत करनी पड़ी.

जोधुपर पुलिस ने आश्रम से जुड़े लोगों से भी पूछताछ की है. लेकिन पुलिस के लिए सबसे अहम पूछताछ आसाराम बापू से होगी.

प्राथमिकी दर्ज होने के बाद से ही पुलिस आसाराम बापू की तलाश कर रही थी.

पुलिस ने अपनी एक टीम गुजरात के अहमदाबाद और दूसरी मध्य प्रदेश भेजी, ताकि आसाराम बापू को नोटिस थमाया जा सके.

आसाराम बापू पुलिस को इंदौर में मिल गए. पुलिस को नोटिस तामील कराने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी. क्योंकि वहां आसाराम बापू के समर्थकों की भीड़ जमा हो गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार