आसाराम ने खोया आपा, पत्रकारों पर भड़के

Image caption आसाराम बापू यौन उत्पीड़न के आरोपों से इंकार करते रहे हैं.

एक नाबालिग लड़की के साथ कथित यौन दुर्व्यवहार और बलात्कार के मामले में अभियुक्त धार्मिक गुरु आसाराम बापू ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी 'उनके खिलाफ साजिश रच रहे' हैं.

आसाराम ने कहा कि "मैं किसी पार्टी का विरोध नहीं करना चाहता."

पत्रकारों ने जब आसाराम बापू से पूछा कि आप कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर आरोप लगा रहे हैं तो उन्होंने कहा, "मैं किसी पर आरोप नहीं लगा रहा, जो सुन रहा हूं वो आपको बता रहा हूं."

पत्रकारों के यह पूछने पर कि क्‍या भाजपा नेता उमा भारती आपका बचाव कर रही हैं तो आसाराम बापू भड़क गये.

उन्‍होंने चिल्‍लाते हुए कहा कि "कोई पार्टी मेरा बचाव नहीं कर रही है. आप लोग मुझे परेशान न करें."

उनके इतना कहते ही उनके समर्थक भी उग्र हो गए और नारेबाजी करने लगे.

'क़ानून का मज़ाक बना रहे हैं'

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक आसाराम के समर्थक आज जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव से मिले और उनसे लोकसभा में आसाराम के खिलाफ दिये गये बयान को वापस लेने के लिये कहा.

आसाराम समर्थकों ने जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव को एक ज्ञापन भी सौंपा.

26 अगस्त को शरद यादव ने लोकसभा में आसाराम के खिलाफ बोलते हुए कहा था, "यह साधु देश को बर्बाद कर रहा है, एक नाबालिग लड़की ने उस पर रेप के आरोप लगाये हैं. सरकार इस मामले पर चुप पर क्यों बैठी है? सरकार को इस पर तुरंत कोई कार्यवाही करनी चाहिए."

पीटीआई के मुताबिक आसाराम के समर्थकों से मिलने के बाद शरद यादव ने कहा, ''आसाराम क़ानून का मज़ाक बना रहे हैं, इस मामले में अब तक किसी तरह की कार्रवाई का न होना सरकार की नाकामी को भी दिखाता है."

उन्होंने यह भी कहा कि "मैंने आसाराम के समर्थकों से कहा कि यहां आने की बजाय उन्हें पुलिस स्टेशन जाना चाहिए. आसाराम को सरेंडर कर जाँच में सहयोग देना चाहिए."

बुधवार को जोधपुर के पुलिस कमिश्नर बीजू जॉर्ज जोसेफ ने पत्रकारों से कहा था, "यदि आसाराम 30 अगस्त तक जोधपुर कोर्ट में पेश नहीं होते हैं तो हम उन्हें गिरफ्तार करने के लिये एक टीम भेजेंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार