नौकरी नहीं मिली, बन गई हीरोइन: परिणीति

परनीति चोपड़ा

अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा की फ़िल्म 'शुद्ध देसी रोमांस' छह सितंबर को रिलीज हो रही है. उसी दिन उनकी बहन प्रियंका चोपड़ा की फ़िल्म 'ज़ंजीर' भी रिलीज हो रही है.

प्रियंका के साथ मुक़ाबले के सवाल पर परिणीति कहती हैं कि वे अपनी बहन के साथ कभी मुक़ाबला नहीं कर सकती हैं. केवल यही उम्मीद कर सकती हैं कि दोनों की फ़िल्में अच्छी कमाई करें.

परिणीति से जब यह पूछा गया कि क्या फ़िल्मों में आने के प्रेरणा उन्हें प्रियंका से मिली तो बहुत ही तीखे अंदाज में उन्होंने कहा, ''मैं मानती हूँ कि मेरी बहन बहुत अच्छी अभिनेत्री है लेकिन आप किसी से एक्टिंग करवा तो सकते हैं, सिखा नहीं सकते. मेरी बहन किसी को एक्टिंग नहीं सिखा सकती.''

उन्होंने कहा,''मैंने एक्टिंग ख़ुद से सीखी है. मुझे अंदर से यह अहसास हुआ कि मैं एक्टिंग कर सकती हूँ इसलिए मैं फ़िल्मों में आई. मुझे प्रियंका चोपड़ा से कभी कोई प्रेरणा नहीं मिली. उसे देखकर कभी नहीं लगा कि मैं अपनी बहन जैसी अभिनेत्री बनूं.''

मंदी ने बनाया अभिनेत्री

परिणीति का कहना था कि अगर उन्हें प्रियंका से प्रेरणा लेनी होती, तो बहुत पहले ले चुकी होतीं और बहुत पहले बन चुकी होतीं एक्ट्रेस.

उन्होंने कहा,''असल बात तो यह है कि मैं कभी अभिनेत्री बनना ही नहीं चाहती थी. मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मैं अभिनेत्री बनूंगी. मैं अभिनेता-अभिनेत्रियों से बहुत नफ़रत करती थी. मुझे लगता था कि ये लोग अपने काम के बारे में बहुत ड्रामा करते हैं.''

उन्होंने कहा, ''मुझे लगता था कि ये लोग सज-धजकर दो डायलाग बोलते हैं और इसी के लिए उनको बहुत सारा पैसा मिलता है. इनका काम ही है फ़ेमस रहना. इसलिए मैं अभिनेत्री नहीं बैंकर बनना चाहती थी लेकिन जब लंदन में मंदी आई, तो मुझे अभिनेत्री बनना पड़ा.''

भारत आकर अच्छी डिग्री होने के बाद भी नौकरी नहीं मिली. अगर मुझे बैंकर की नौकरी सही वक़्त पर मिल जाती, तो मैं कभी अभिनेत्री नहीं बनती.

परिणीति बताती हैं, ''भारत आकर जब बैंक में नौकरी नहीं मिली तो यशराज के लिए पीआर का काम शुरू किया. इसके बाद अभिनेत्री बनने का भी न्योता मिला लेकिन अब मैं जान गई हूं कि अभिनेत्री बनने के लिए कितनी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. एक ही सीन को बार-बार अलग-अलग भावों में करना बहुत मुश्किल होता है. कई सीन तो 15-20 बार भी करना पड़ता है.''

संबंधों की चर्चा

'लेडीज वर्सेज रिकी बहल' और ' इश्कजादे' के बाद 'शुद्ध देसी रोमांस' परिणीति की यशराज के साथ तीसरी फ़िल्म है.

बॉलीवुड में आए परिणीति को भले ही ज़्यादा दिन न हुए हों लेकिन उनका नाम हमेशा ही किसी न किसी के साथ जोड़ा जाता रहा है.

रिश्तों को लेकर सुर्खियों में छाए रहने के सवाल पर वह कहती हैं,''मेरा नाम कई बार किसी न किसी के साथ जोड़ा गया लेकिन अब इन बातों पर ध्यान नहीं देती. कभी मेरा नाम उदय चोपड़ा तो कभी 'बैंड बाजा बारात' के निर्देशक मनीष शर्मा के साथ जोड़ा गया. हद तो तब हो गई जब मेरा नाम जैकी भगनानी के साथ भी जोड़ दिया गया.''

परिणीति कहती हैं, ''मुझे सबसे ज्यादा गुस्सा तब आता है जब कुछ लोग सोचते हैं कि इसको फ़िल्में इसलिए मिल रही हैं क्योंकि इसका अफ़ेयर मनीष शर्मा के साथ चल रहा है. यह सुनकर मुझे बहुत बुरा लगता है क्योंकि मनीष शर्मा मेरे लिए गुरु जैसे हैं. मैं उनकी इज़्ज़त करती हूं.''

परिणीति ने यह साफ़ कर दिया कि उन्हें फ़िल्मों में बिकनी पहनने और किसिंग सीन करने से परहेज नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार