कश्मीर: सुरक्षा बलों की कार्रवाई में 'तीन चरमपंथी मारे गए'

कश्मीर में कार्रवाई
Image caption सुरक्षा बलों का कहना है कि उन्होंने 'हमलावरों' पर कार्रवाई की

भारत प्रशासित कश्मीर में विश्वविख्यात संगीतकार ज़ुबिन मेहता के विवादास्पद कंसर्ट से पहले भारतीय सुरक्षा बलों ने दावा किया है कि तीन हथियारबंद हमलावरों को एक जवाबी कार्रवाई में मार दिया गया है.

लेकिन स्थानीय लोगों का कहना है कि ज़ुबिन मेहता के शो का विरोध करने वाले के ख़िलाफ़ ऑपरेशन के दौरान आम लोगों पर फायरिंग की गई है.

ये घटना दक्षिणी क़स्बे शोपियां के गगरन इलाक़े में सेंट्रल रिज़र्व पुलिस फ़ोर्स के कैंप के क़रीब हुई.

सीआरपीएफ़ के आईजी नलिन प्रभात ने बीबीसी को बताया, “ये लोग हमला करने के लिए जब कैंप के मुख्य दरवाज़े की तरफ़ बढ़े तो हमारे जवानों ने उन्हें रोकने की कोशिश की. उन्होंने गोलियां चलाईं और बम फेंके. लेकिन जवाबी कार्रवाई में तीनों मारे गए.”

'जख्मों पर नमक'

घाटी भर में शनिवार को ज़ुबिन मेहता के कंसर्ट के ख़िलाफ़ हड़ताल की गई और श्रीनगर में उनके समानांतर एक अन्य कंसर्ट का आयोजन भी किया गया है.

ज़ुबिन मेहता विश्वविख्यात संगीतकार हैं जो पश्चिमी संगीत का एक बड़ा नाम माने जाते हैं.

लेकिन उनके कंसर्ट को कश्मीर के अलगाववादी नेता, मानवाधिकार संगठन और कई छात्रों ने कश्मीरियों के ज़ख़्मों पर नमक छिड़कने का नाम दिया है.

इस कंसर्ट के लिए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं. कंसर्ट में एक हज़ार से ज्यादा लोगों को आमंत्रित किया गया है जिनमें ज्यादातर भारतीय फ़िल्मी सितारें और उद्योगपति शामिल हैं.

लेकिन स्थानीय छात्र और मानवाधिकार संगठन ने ज़ुबिन मेहता के अहसास-ए-कश्मीर के मुक़ाबले हक़ीक़त-ए-कश्मीर नाम से एक कंसर्ट का आयोजन किया है.

इस समानांतर कंसर्ट के आयोजक खुर्रम परवेज़ ने बताया कि उन्हें कंसर्ट के आयोजन की अनुमति तो मिल गई है, लेकिन इसमें शामिल होने वाले लोगों को पुलिस ने रोक लिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार