दिल्ली गैंग रेप: सोशल मीडिया पर कोर्ट के फ़ैसले का स्वागत

दिल्ली सामूहिक बलात्कार कांड को लेकर विरोध प्रदर्शन

दिल्ली गैंग रेप की घटना पर अदालत ने फ़ैसला दे दिया है. चारों दोषियों को फांसी की सज़ा दी गई है.

फ़ैसला सुनाते वक्त जज ने कहा, "इससे भारत की सामूहिक अंतरात्मा को चोट पहुँची है. ये हर तरह से अपवाद है जिसके लिए फाँसी की सज़ा सुनाई जाती है."

कुछ ऐसी ही प्रतिक्रियाएँ सोशल मीडिया के मंचों पर भी देखी जा सकती हैं.

सभी दोषियों को मौत की सज़ा

सार्वजनिक जीवन से जुड़े ज्यादातर लोगों ने इस फैसले का स्वागत किया है. हालांकि कुछ चिंताएँ भी जाहिर की जा रही हैं.

लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने ट्विटर पर लिखा हैं, "दिल्ली गैंग रेप केस में अदालत के फ़ैसले का मैं स्वागत करती हूँ. ये फ़ैसला इस तरह के अपराधों को रोकने में कारगर होगा."

फिल्म अभिनेता अनुपम खेर कहते हैं, "बलात्कारियों को मौत की सज़ा. 13 सितम्बर का शुक्रवार इंसाफ़ का दिन है."

फिल्म अदाकारा नेहा धूपिया कहती हैं, "चारों बलात्कारियों को मौत की सज़ा मिलने की बात अभी अभी सुनी. आखिरकार यह एहसास हुआ कि इस सिस्टम में सब कुछ गलत नहीं है."

'फ़ैसला कितना कारगर'

Image caption सुषमा स्वराज को उम्मीद है कि इस फैसले से महिलाओं के खिलाफ अपराध कम होंगे.

एक सवाल कई लोगों की प्रतिक्रियाओं से जाहिर होता है कि क्या ये फैसले भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोक पाएगा.

जाने माने टेलीविजन पत्रकार राजदीप सरदेसाई की प्रतिक्रिया में इस चिंता की झलक देखी जा सकती हैं.

क्या महिलाओं के लिए जगी है उम्मीद

वे कहते हैं, "मौत की सज़ा की उम्मीद की ही जा रही थी लेकिन क्या हमें यह सचमुच लगता है कि भविष्य में यह फ़ैसला बलात्कार करने जा रहे किसी व्यक्ति को ऐसा करने से रोक पाएगा. क्या सचमुच आप ऐसा सोचते हैं?"

लेखिका शोभा डे भी इस आशंका से इत्तेफाक रखती हुई मालूम देती हैं.

ट्विटर में उन्होंने कहा, "बड़ा सवाल यह है कि फांसी दे दिए जाने के बाद क्या बलात्कार की घटनाएँ रुक जाएंगी. और इसमें कितना वक्त लगेगा?"

लेकिन ट्विटर पर जाहिर की गई सार्वजनिक प्रतिक्रियाओं से यह साफ मालूम पड़ता है कि लोग आम तौर पर इस फैसले का स्वागत कर रहे हैं.

समाज का रवैया

Image caption अक्षय कहते हैं कि फैसले से दूसरे मर्दों को मैसेज मिलेगा.

फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने लिखा है, "इंसाफ़ हुआ. चारों बलात्कारियों के लिए मौत की सज़ा. उम्मीद है इससे दूसरे मर्दों को मैसेज मिलेगा. वे लोग इस घिनौने काम के लिए इससे कम किसी सज़ा के लायक नहीं थे."

सांसद मिलिंद देवड़ा महिलाओं के प्रति समाज के रवैये के बारे में बात करते हैं.

नौ महीनों की अहम तारिखों का सफर

वह कहते हैं, "दिल्ली गैंग रेप केस में कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए यह भी याद दिलाना चाहूंगा कि जब तक औसत भारतीयों का रवैया महिलाओं के प्रति नहीं बदलेगा, हालात अधिक नहीं बदलेंगे."

फिल्म अभिनेत्री बिपाशा बसु ने लिखा है, "निर्भया आखिरकार तुम्हें इंसाफ़ मिला!"

उद्योगपति आनंद महिंद्रा उन लोगों के बारे में बात करते हैं जो मौत की सज़ा का विरोध करते हैं.

उन्होंने लिखा है, "कई समझदार दोस्त मौत की सज़ा का विरोध करते हैं. मैं उनका तर्क समझता हूँ लेकिन यह भी स्वीकार करता हूँ कि मैं दिल्ली गैंग रेप के बलात्कारियों के लिए फांसी की सज़ा की प्रार्थना की थी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार