भाजपा में अकेले नहीं पड़े हैं आडवाणी: राजनाथ

  • 14 सितंबर 2013
राजनाथ सिंह
Image caption राजनाथ के सामने मोदी के मुद्दे पर पार्टी को एकजुट रखने की चुनौती है

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कहा है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी से कोई मतभेद नहीं हैं और वो अब भी उनके संरक्षक है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि आडवाणी भाजपा में अकेले नहीं पड़े हैं और उन्होंने कभी नहीं कहा है कि मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार नहीं बनाया जाना चाहिए.

शुक्रवार को गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को भाजपा की तरफ से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने के बाद से पार्टी के कई नेता आडवाणी को मनाने में जुटे हुए हैं.

आडवाणी शुरू से ही प्रधानमंत्री पद पर मोदी की उम्मीदवारी को लेकर अपनी असहजता जताते रहे हैं.

शनिवार को भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में नामांकन के बाद मोदी सीधे आडवाणी के घर जाकर उनका आशीर्वाद लिया.

'सबसे लोकप्रिय नेता'

मोदी की उम्मीदवारी पर मुहर लगाने के लिए शुक्रवार को बुलाई गई भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में भी आडवाणी नहीं गए और उन्होंने एक पत्र लिख कर पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह के कामकाज के तौर तरीकों पर सवाल उठाए.

जब राजनाथ सिंह से पूछा गया कि कामकाज के ऐसे कौन से तरीके हैं जिन पर आडवाणी की नाराजगी है, तो उन्होंने कहा, “इस बारे में मुझे जानकारी नहीं है.”

आडवाणी को अपना संरक्षक बताते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, “हमारा नेता, हमारा संरक्षक जो भी हमको कहेगा, मैं उसको सुनूंगा और यदि कहीं पर कोई कमी होगी तो सुधार करने की कोशिश करूंगा.”

राजनाथ सिंह ने नरेंद्र मोदी को एक बार फिर देश का सबसे लोकप्रिय नेता बताते हुए कहा कि इस बात को लेकर कभी संदेह नहीं था कि उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया जाएगा.

'तलाशेंगे नए साथी'

जब उनसे पूछा गया कि भोपाल में होने वाले पार्टी के कार्यक्रम में क्या नरेंद्र मोदी और लाल कृष्ण आडवाणी एक साथ होंगे, भाजपा अध्यक्ष ने कहा, "हां सब लोग जाएंगे."

Image caption मोदी को मिली पीएम पद की उम्मीदवारी

कांग्रेस समेत कई पार्टियों ने भाजपा पर मोदी को राष्ट्रीय स्वयंसेवक के दबाव में प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने का आरोप लगाया है. लेकिन राजनाथ सिंह ने कहा कि भाजपा पर संघ की तरफ से कोई दबाव नहीं है.

मुंबई में पत्रकारों के सवालों के जवाब में राजनाथ सिंह ने कहा कि चुनाव पूर्व और चुनाव बाद के सहयोगी तलाशे जाएंगे लेकिन इस बारे में कोई भी फैसला एनडीए गठबंधन के मौजूदा साथियों को विश्वास में लेकर ही किया जाएगा.

उन्होंने आम चुनावों के लिए भाजपा की चुनाव प्रचार समिति की कमान किसी और व्यक्ति को सौंपे जाने के सवाल पर कहा कि इस बारे में अभी कोई बातचीत नहीं हुई है. अभी नरेंद्र मोदी इस पद पर हैं.

राजनाथ सिंह ने यूपीए सरकार को सभी मोर्चे पर विफल करार दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार