बलात्कार के आरोप के बाद मंत्री का इस्तीफ़ा

Image caption राजस्थान के मंत्री बाबूलाल नागर ने खुद को निर्दोष बताया है

बलात्कार के कथित आरोपों के बाद राजस्थान के खादी, ग्रामीण उद्योग और डेयरी राज्य मंत्री बाबूलाल नागर ने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

एक महिला ने 11 सितंबर को मंत्री पर जयपुर स्थित सरकारी निवास में कथित रूप से बलात्कार करने का आरोप लगाया है.

पीड़िता के मुताबिक, वह दो साल पहले मंत्री के सम्पर्क में आई थी.

उन्होंने मंत्री से एक रिश्तेदार के लिए डेयरी बूथ आबंटन और पुत्र के स्कूल दाख़िले में मदद ली थी.

कोर्ट के आदेश पर रिपोर्ट

पीड़िता का कहना है 11 सितंबर को मंत्री ने फ़ोन कर घर पर बुलाया. फिर कथित तौर पर बलात्कार किया.

उनका कहना है कि पुलिस ने बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज़ करने से मना कर दिया था. अदालत में गुहार के बाद ही मामला दर्ज हो पाया.

पुलिस की सीआईडी शाखा मामले की जाँच कर रही है. बुधवार रात को पुलिस ने नागर से पूछताछ की और महिला को लेकर नागर के सरकारी निवास पर भी गई. शिनाख़्त के बाद कमरे को सील कर दिया गया.

नागर का कहना है कि उक्त महिला उनके घर आई ज़रूर थी लेकिन उस वक्त काफी लोग मौजूद थे, ऐसी कोई घटना नहीं हुई.

उनका कहना है, ''मेरे ख़िलाफ़ राजनीतिक साज़िश रची गई है ताकि मैं चुनाव हार जाऊं और पार्टी को नुकसान पहुंचे. जांच में सब स्पष्ट हो जाएगा.''

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, ''क़ानून से ऊपर कोई नहीं है. क़ानून अपना काम करेगा, सरकार का इसमें कोई दख़ल नहीं है.''

बीजेपी ने पूरे मामले की सीबीआई जाँच की मांग की है. महिला संगठनों ने नागर की गिरफ्तारी की मांग की है.

ये दूसरा मौका है जब कांग्रेस सरकार के किसी मंत्री को महिला उत्पीड़न के आरोपों के चलते इस्तीफ़ा देना पड़ा है.

इससे पहले जल संसाधन मंत्री महिपाल मदेरणा को भंवरी हत्याकांड के कारण पद गंवाना पड़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के नए एंड्रॉएड को डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार