मुज़फ़्फ़रनगर हिंसा: दो और विधायकों की गिरफ़्तारी

मुज़फ़्फ़रनगर
Image caption कई विधायकों पर हिंसा को भड़काने के आरोप लगे हैं

हिंसा भड़काने और फ़र्ज़ी वीडियो अपलोड करने के आरोप में भारतीय जनता पार्टी के विधायक संगीत सोम को उत्तर प्रदेश के मेरठ में गिरफ़्तार कर लिया गया है.

उनके ख़िलाफ़ मुज़फ़्फ़रनगर में भड़की हिंसा के सिलसिले में गिरफ़्तारी का वारंट जारी किया गया था. सोम ने पुलिस के समक्ष आत्म समर्पण किया जिसके बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया.

सोम के अलावा बहुजन समाज पार्टी के विधायक नूर सलीम राणा को भी गिरफ़्तार कर लिया गया है.

इससे पहले शुक्रवार को भाजपा के विधायक सुरेश राणा को भी पुलिस नें लखनऊ के गोमती नगर से गिरफ़्तार किया है.

मुज़फ़्फ़रनगर में भड़की हिंसा के सिलसिले में कुल 16 लोगों के ख़िलाफ़ मामला दायर किया गया है जिसमे भारतीय किसान यूनियन, भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के नेता शामिल हैं. अभी तक तीन लोगों को इस सिलसिले में गिरफ़्तार किया जा चुका है.

'शांतिप्रिय नागरिक'

इस बीच मुज़फ़्फ़रनगर ज़िला प्रशासन ने भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष राजनाथ सिंह को हिंसाग्रस्त इलाक़ों का दौरा करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है.

प्रशासन का कहना है की उनके दौरे से इलाक़े में तनाव बढ़ सकता है. भाजपा ने ज़िला प्रशासन के इस फ़ैसले का विरोध किया है.

पुलिस का कहना है कि संगीत सोम ने शनिवार की सुबह सलावा थाने में आत्म समर्पण किया. संगीत सोम के साथ बड़ी संख्या में उनके समर्थक ट्रक में सवार होकर सलावा थाना पहुंचे.

सोम इसी इलाक़े विधायक हैं और पुलिस को उन्हें वहां से ले जाने के लिए काफ़ी मशक़्क़त करनी पड़ी. गिरफ़्तारी के बाद सोम का कहना था कि उनके ख़िलाफ़ लगाए गए सभी आरोप 'बेबुनियाद' हैं और वो एक शांतिप्रिय नागरिक हैं.

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने अपनी पार्टी के विधायकों की गिरफ्तारी की आलोचना की है.

उन्होंने कहा कि ‘निर्दोष लोगों’ की गिरफ्तारी बंद की जानी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार