हमारे नेता लालू थे और वही रहेंगे : राजद प्रवक्ता

बिहार के चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में सीबीआई अदालत ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव को दोषी ठहराया है. फ़ैसले के बाद लालू प्रसाद यादव को रांची के बिरसा मुंडा को जेल ले जाया गया.

अदालत का फैसला आने के बाद राजद के प्रवक्ता मनोज झा ने बीबीसी संवाददाता रूपा झा से बात की.

अदालत का फैसला कितना बड़ा नुकसान है राजद के लिए? इस सवाल पर राजद प्रवक्ता ने कहा, ''हमें इस फैसले का आभास पहले से थ और इस मुश्किल समय में पार्टी में जैसी एकजुटता है वैसी पहले कभी नहीं थी. हमारा पक्ष मज़बूत है और हमें उम्मीद है कि अंत में लालू जी निर्दोष साबित होंगे.''

'नीतीश की चिंता नहीं'

लालू यादव के बाद पार्टी मुखिया के सवाल पर मनोज कहते हैं, ''लालू जी चाहें कहीं भी हों लेकिन राजद के नेता हमेशा से लालू जी थे, वही हैं और वही रहेंगे.''

आरजेडी के लिये क्या यह संकट की घड़ी है? मनोज झा कहते हैं, "हमें बहुत दुःख है कि हमारे नेता के साथ ऐसा हुआ. लेकिन यह फैसला हमारे लिए एक चुनौती की तरह है. हम आगे अपील करेंगे.''

चारा घोटालाः कब क्या हुआ?

कांग्रेस को समर्थन देने पर ठगा हुआ महसूस करने की बात को उन्होंने सिरे से नकार दिया.

Image caption राजद प्रवक्ता मनोज झा का कहना है कि तेजस्वी यादव पार्टी के लिए लगातार काम कर रहे हैं

इस फैसले के आने के बाद राजद में लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव की भूमिका बढ़ने पर राजद प्रवक्ता ने कहा, ''तेजस्वी लगातार काम करते रहे हैं, और आगे भी वह पार्टी में सक्रिय रहेंगे. हमारी पार्टी हमेशा जनता के साथ खड़ी रही है.''

इस फैसले से नीतीश कुमार को राजनीतिक फ़ायदा होने को सिरे से नकारते हुए मनोज कहते हैं, ''नीतीश कुमार अब बिहार में हमारे लिए मुद्दा नहीं है, हमारा सीधा मुकाबला भाजपा से है.''

चारा घोटाला मामले में 44 अन्य अभियुक्त भी थे और सभी को अदालत ने दोषी ठहराया है. सज़ा का ऐलान तीन अक्तूबर को होगा.

क्या था मामला?

बिहार के पशुधन विभाग में हुए 950 करोड़ रुपए के चारा घोटाला केस में 17 साल बाद फ़ैसला आया है.

यह मामला 27 जनवरी, 1996 को पश्चिम सिंहभूम ज़िले के चायबासा में पशुधन विभाग पर मारे गए एक छापे के बाद सामने आया था.

हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने इस मामले की जांच की और तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को अभियुक्त बनाया गया.

चारा घोटाला: लालू यादव दोषी करार, जेल भेजे गए

मई, 2007 को लालू प्रसाद यादव के भतीजे समेत 58 अभियुक्तों को दोषी ठहराया गया और उन्हें पांच से छह साल की सज़ा सुनाई गई.

अब इस मामले के 17 साल बाद आए फ़ैसले में लालू प्रसाद यादव और पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र समेत 45 लोगों को दोषी करार दिया गया है.

इनके अलावा अभियुक्तों में आईएएस अफ़सर महेश प्रसाद, फूलचंद सिंह, बेक जूलियस, के अर्मुगम और आयकर अधिकारी एसी चौधरी, पशुधन विकास मंत्री-विद्या सागर निषाद, आर के राणा और ध्रुव भगत भी शामिल थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार