तेलंगाना के गठन के लिए 'मंत्री समूह' को मंज़ूरी

  • 3 अक्तूबर 2013
तेलंगाना
Image caption आंध्र प्रदेश में पृथक तेलंगाना राज्य की माँग को लेकर कई सालों से आंदोलन चल रहा है

आंध्र प्रदेश से पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के लिए गुरुवार को कैबिनेट ने मंत्रियों के एक समूह (जीओएम) के गठन को मंजूरी दे दी है.

कैबिनेट की करीब दो घंटे तक चली बैठक के बाद गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने संवाददाताओं से कहा, ''आंध्र प्रदेश से अलग पृथक तेलगांना के गठन की मंजूरी दी गई है.''

उन्होंने कहा कि कैबिनेट ने नए राज्य के गठन के लिए मंत्रियों का एक समूह बनाने की भी मंजूरी दी है.

हैदराबाद अगले 10 सालों तक तेलंगाना और सीमांध्र की संयुक्त राजधानी होगी.

शिंदे ने कहा कि मंत्री समूह राज्य के बंटवारे के तरीकों के बारे में विचार करेगा.

इस फैसले के बाद राज्य के तीनों क्षेत्रों के लोगों को सभी मौलिक अधिकार प्राप्त होंगे.

इस बीच, भाजपा ने कहा है कि सरकार तेलंगाना के गठन संबंधी विधेयक को संसद में लाती है तो वह उसका समर्थन करेगी.

अनशन

इससे पहले 30 जुलाई को कार्य समिति की बैठक में तेलंगाना के गठन को मंजूरी दी गई थी.

तेलंगाना के लिए आंदोलन चलाने वाले तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष चंद्रशेखर राव के अनशन पर बैठने के कारण 9 दिसंबर, 2009 को केंद्र सरकार ने इसके गठन की घोषणा की थी. लेकिन बाद में वह मुकर गई थी.

( बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकतें हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार