पायलिन: सोशल मीडिया पर सरकार की तारीफ़

अब जब पायलिन तूफ़ान धीमा पड़ गया है और तूफ़ान से होने वाले नुकसान की जानकारी सामने आ रही है. ऐसे में सोशल मीडिया पर पायलिन से जुड़ी प्रतिक्रिया का रुख भी बदल गया है.

फेसबुक और ट्वीटर पर भारतीय मौसम विभाग, आईएमडी, और सरकार की तारीफ़ भी हो रही है.

पायलिन पर फेसबुक कम्यूनिटी लोग तूफ़ान से जुड़ी जानकारी, आपबीती और तस्वीरें पोस्ट कर रहे हैं.

बीबीसी हिंदी फेसबुक के पाठक योगेंद्र जोशी लिखते हैं, "ग्लोबल वार्मिंग के कारण ऐसी प्राकृतिक दुर्घटनाओं की संख्या और तीव्रता बढ़ने की संभावना मौसम विज्ञानी बताते हैं."

बीबीसी के एक अन्य पाठक ने ओडिशा और आंध्रप्रदेश में हेल्पलाइनों के नंबर साझा किए हैं.

ट्विटर पर दशहरा और विजयदशमी के साथ ही पायलिन और आईएमडी भी ट्रेंड कर रहे हैं. बहुत से लोग तूफ़ान से सक्षम तरीके से निपटने के लिए सरकार की तारीफ़ कर रही है.

सांसद और केंद्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा ने ट्वीट किया है, "इस बार दशहरा मनाते समय उन सभी लोगों की कोशिशों की सराहना करें जिन्होंने हमें पायलिन के प्रकोप से बचाया है."

नेता और जनता की ट्वीट

Image caption विशाखापट्टनम में उठती तूफानी लहरें.

कांग्रेस सासंद नवीन जिंदल @MPNaveenJindal ने अपने ट्वीट में दशहरा की शुभकामनाओं के साथ पायलिन की भी बात की है.

उन्होंने ट्वीट में लिखा है, "सभी को दशहरा की शुभकामनाएं. सच हमेशा कायम रहेगा और पायलिन के सामने देश एकजुट है."

मनीष राजोरा @ManishRajora ने ट्वीट किया है, "आईएमडी के वैज्ञानिकों को बधाई जिन्होंने पायलिन के बारे में सही पूर्वानुमान लगाया और पश्चिमी विशेषज्ञों को ग़लत साबित किया."

अशोक झा @tetevide ने ट्वीट किया है, "पहली बार हम किसी प्राकृतिक आपदा के लिए तैयार थे. अगर हमारी सभी संस्थाएं मिल कर काम करें तो हम ये कर सकते हैं."

विनायक @ vkolgi का ट्वीट कहता है, "पहली बार हम प्राकृतिक आपदा के लिए तैयार हैं. अच्छी बात है कि अब हम भारतीयों की जान सस्ती नहीं रह गई."

समरेंद्र @spswain7 ने लिखा है, "पायलिन के बारे में जागरुकता फैलाने में सोशल मीडिया ने बड़ी भूमिका निभाई है."

रिशिका बरुआ @rishika625 पर ट्वीट किया है, "काश कि केंद्र और उत्तराखंड सरकारों ने भी आने वाले ख़तरे पर कदम उठाए होते. उम्मीद करते हैं कि पायलिन से जिस तरह निपटा जा रहा है, उससे भविष्य में सबक मिलेगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार