'मच्छरों' के बहाने भाजपा पर राहुल का निशाना

  • 24 अक्तूबर 2013
राहुल-मोदी (फ़ाइल)
Image caption लोग नरेन्द्र मोदी और राहुल गांधी के भाषणों की तुलना करते रहे हैं.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि चंद वर्षों पहले मध्य प्रदेश के दौरे पर उन्हें 'मच्छरों ने अच्छी तरह से काटा था और गांव का पानी पीने की वजह से उनका पेट ख़राब हो गया था'.

राज्य के सागर में एक चुनावी सभा के दौरान राहुल गांधी साल 2008 में बुंदेलखंड इलाक़े के दौरे को याद कर रहे थे, उस दौरान वहाँ सूखा पड़ा था.

कांग्रेस नेता ने विपक्षी भारतीय जनता पार्टी को एयरकंडीशन कमरों से राजनीति करने वाला दल बताया और इसी सिलसिले में उसके 2004 के 'इंडिया शाइनिंग' प्रचार पर भी कटाक्ष किया.

राहुल गांधी का कहना था कि भूमि अधिग्रहण क़ानून किसानों और खेतिहरों के लिए ख़ुशहाली लाएगा. उनका कहना था कि उनकी सरकार कोई भी कदम उठाने से पहले ग़रीबों के हितों का ध्यान रखती है.

पिछले कुछ दिनों से राहुल गांधी चुनावी रैलियों में अपनी सरकार के काम-काज की बात पर ज़ोर देते हैं और उन क़दमों और क़ानूनों को गिनाते हैं जो उनके मुताबिक़ आम आदमी के हित में लाए गए हैं.

पहले की सभाओं में उन्होंने सूचना के अधिकार, भोजन के अधिकार और आम लोगों को सुविधाएं देने वाले क़ानूनों की बात की है.

प्रहार

पहले मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी को लेकर सामान्यत: ख़ामोशी अख़्तियार किए रहने वाले राहुल गांधी ने गुरुवार की सभा में भी पार्टी के 'इंडिया शाइनिंग' के नारे को निशाना बनाया.

उन्होंने सभा में बैठी जनता से सीधे पूछा कि क्या उन्हें इसका फायदा हुआ था, जब कुछ आवाज़ें 'नहीं' में आईं तो फिर उन्होंने कहा कि इस बार प्रदेश में उनकी सरकार होगी.

उन्होंने कहा कि बीजेपी ग़रीबों का ध्यान नहीं रखती. अभी एक ही दिन पहले उन्होंने राजस्थान में रैलियों को संबोधित करते हुए बीजेपी को लोगों को सांप्रदायिक आधार पर बांटने वाला राजनीतिक दल कहा था.

राहुल गांधी के दावे पर प्रतिक्रिया देते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ट्विटर संदेश में कहा है, "कांग्रेस के उपाध्यक्ष कहते हैं कि बीजेपी एयरकंडीशन की राजनीति करती है और उनका अंदाज़ राजशाही है, कोई मामलों से कितना अनभिज्ञ हो सकता है?"

राहुल गांधी ने बताया कि उन्होंने सूबे के नेताओं से कह दिया है कि सबको साथ मिलकर लड़ना है और सबने उन्हें इस बात का भरोसा भी दिलाया है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष का इशारा शायद पार्टी में नेताओं के बीच उन मतभेदों को लेकर था जिसकी बात मध्य प्रदेश में हमेशा होती रही है.

फूट

विश्लेषक मानते रहे हैं कि चूंकि मध्य प्रदेश में कांग्रेस के इतने बड़े नेता मौजूद हैं और सभी की अपनी-अपनी डफ़ली और राग है जिसकी वजह से समर्थन बँट जाता है.

राहुल गांधी ने सागर की जनता को कहा कि केंद्र में उनकी सरकार ने बुंदेलखंड की मदद के लिए तीन हज़ार करोड़ रुपए का पैकेज दिया था और वो आगे भी ऐसा करते रहेंगे.

भाषण के बीच उन्होंने समर्थकों को यक़ीन दिलाया कि राज्य में उनकी ही सरकार बनेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार