गया में नक्सली हिंसा, तीन की मौत

  • 11 नवंबर 2013
बोधगया
Image caption कुछ समय पहले बोधगया में टाइमर के ज़रिए धमाका किया गया था. (फ़ाइल फ़ोटो)

बिहार के गया ज़िले में रविवार रात को नक्सली कार्रवाई में तीन लोग मारे गए हैं.

इस घटना में दो लोग घायल भी हुए हैं. इनका इलाज गया स्थित अनुग्रह नारायण मेडिकल कॉलेज में किया जा रहा है.

मारे गए लोगों में संजय यादव और और उनके दो अंगरक्षक भुवनेश्वर यादव ओर सुरेंद्र यादव शामिल हैं.

यह घटना ज़िले के मोहनपुर प्रखंड के अमकोला गांव की है, जो गया ज़िला मुख्यालय से क़रीब 60 किलोमीटर दूरी पर है.

मगध क्षेत्र के डीआईजी बीएस मीणा ने इस घटना की पुष्टि की है.

मीणा ने बताया, ‘अब तक की जांच से यह बात सामने आई है कि यह एक नक्सली कार्रवाई है.’

प्राप्त सूचना के अनुसार यह एक पूर्वनियोजित नक्सली कार्रवाई थी. बताया जा रहा है संजय यादव नक्सलियों के ख़िलाफ़ एसपीएम नामक एक संगठन का नेतृत्व कर रहे थे और इस कारण वे उनके निशाने पर थे.

घटना के बारे में स्थानीय पत्रकार एमएस अहमद ने बताया, ‘नक्सलियों ने रविवार रात लगभग एक बजे गांव में चल रहे एक सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान हमला किया. हमले को अंजाम देने के बाद उन्होंने माओवाद के समर्थन में नारे भी लगाए.’

घटना के बाद आज सुबह जब गया के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक निशांत कुमार तिवारी के नेतृत्व में ज़िला पुलिस अमकोला गांव पहुंची, तो उसे गांव वालों के विरोध का सामना करना पडा़.

इस कारण पुलिस को पोस्टमॉर्टम के लिए मृतकों के शव अपने कब्ज़े में लेने के लिए ख़ासी मशक्कत करनी पड़ी. शवों को ज़िला पुलिस पोस्टमार्टम के लिए गया ले गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार