फ़र्ज़ी पासपोर्ट केस में अबू सलेम दोषी क़रार

अबू सलेम, मुंबई धमाके, फ़र्ज़ी पासपोर्ट केस
Image caption अबू सलेम और मोनिका बेदी को पुर्तगाल से प्रत्यर्पित किया गया था

मुंबई धमाकों के अभियुक्त अबू सलेम को 2001 के फ़र्जी पासपोर्ट मामले में दोषी ठहराया गया है.

सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार को हैदराबाद में अबू सलेम को दोषी ठहराया. हालांकि कोर्ट ने बताया है कि इस मामले में सज़ा 28 नवंबर को सुनाई जाएगी.

मुंबई से स्थानीय पत्रकार अश्विन अघोर ने बताया है कि अदालत ने आज महाराष्ट्र के ठाणे कारागार अधिकारियों को इस फ़ैसले के बारे में सूचित कर दिया है. उन्हें 28 तारीख को हैदराबाद अदालत में पेशी के लिए ले जाया जाएगा.

अबू सलेम को पुर्तगाल से 2005 में प्रत्यर्पित किया गया था. उनके ख़िलाफ़ फ़र्ज़ी नाम से पासपोर्ट हासिल करने को लेकर 2009 में हैदराबाद में मुक़दमा दर्ज किया गया था.

इसी शुक्रवार को अबू सलेम को ठाणे केंद्रीय जेल में स्थानांतरित किया गया था. पांच महीने पहले तलोजा जेल में उन पर एक क़ैदी ने हमला किया था. इसके बाद उन्हें वहां से ठाणे ले जाने का फ़ैसला किया गया था.

हैदराबाद से बचाव वकील मोहम्मद अज़ीम ने बीबीसी के अजय शर्मा को बताया कि अबू सलेम की ग़ैरमौजूदगी में फ़ैसला सुनाया गया है. उन्होंने बताया कि अदालत ने उन्हें पासपोर्ट अधिनियम के तहत दोषी क़रार नहीं दिया है.

इस मामले में सीबीआई के वकील टीवी रामन्ना ने बीबीसी से बातचीत में कहा, ''अभियोजन पक्ष ने आईपीसी की धारा 120 बी, 420, 419, 468, 471 के तहत अपराध सिद्ध किया है. इस मामले में 39 गवाहों की गवाही हुई और 60 दस्तावेज़ पेश किए गए.''

रामन्ना ने बीबीसी को बताया, ''पासपोर्ट एक्ट को छोड़कर सभी धाराओं के तहत आरोप साबित हो चुके हैं. अभियोजन पक्ष ने धारा 420 के तहत अधिकतम सज़ा की मांग की थी. पासपोर्ट फ़र्जीवाड़े में जहां दो साल की सज़ा का प्रावधान है वहीं धोखाधड़ी के तहत अधिकतम सात साल की सज़ा का प्रावधान है.''

अबू सलेम छह साल से न्यायिक हिरासत में हैं.

पासपोर्ट केस

सलेम पर 2001 में आंध्र प्रदेश के कुर्नूल ज़िले में यह पासपोर्ट हासिल करने का आरोप था.

आरोप था कि अबू सलेम ने अपने, अपनी दोस्त मोनिका बेदी और पत्नी सबीना आज़मी के लिए हैदराबाद के रीज़नल पासपोर्ट दफ़्तर से सितंबर 2001 में पासपोर्ट बनवाए थे.

उन्होंने पासपोर्ट में अपना नाम रामिल कमाल मलिक लिखवाया था और अपना फ़ोटो लगवाकर जन्म वर्ष 1970 दर्ज कराया था. पासपोर्स में उन्होंने अपने घर का पता मकान नंबर 17/107, आरटी स्ट्रीट, कुर्नूल, आंध्र प्रदेश लिखवाया था.

मोनिका बेदी को सना मलिक कमाल के नाम से पासपोर्ट मिला था. उनके घर का पता भी कुर्नूल का ही था. इसी तरह सबीना आज़मी को नेहा आसिफ़ जाफ़री के नाम से पासपोर्ट मिला था. उनके घर का पता भी कुर्नूल ही था.

सलेम और बेदी के पुर्तगाल से प्रत्यर्पण के बाद 2006 में मोनिका बेदी को धोखाधड़ी के आरोप में पांच साल की सज़ा सुनाई गई थी. मोनिका बेदी की सज़ा 2010 में सुप्रीम कोर्ट ने इस आधार पर घटा दी थी कि वे अपनी सज़ा की अवधि पहले ही पूरी कर चुकी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार