अपने दम पर अरबपति चीन में ज़्यादा, भारत में कम

मुकेश अंबानी
Image caption मुकेश अंबानी पिछले कई साल से दुनिया के सबसे धनी भारतीय और भारत के सबसे दौलतमंद शख्स मानेजाते हैं.

एक शोध की मानें, तो भारत में सऊदी अरब और फ़्रांस, स्विट्ज़रलैंड और हॉन्गकॉन्ग से भी ज़्यादा अरबपति हो गए हैं.

मगर अपने पड़ोसी देश चीन से तुलना करें तो चीन में भारत के मुक़ाबले युवा अरबपति ज़्यादा हैं और वहां 90 फ़ीसदी अरबपतियों ने अपने दम पर संपत्ति कमाई है.

जबकि सिर्फ़ 47 फ़ीसदी भारतीय अरबपति ऐसे हैं जिन्होंने अपने दम पर दौलत इकट्ठी की.

संपत्ति के बारे में विश्व स्तर पर सूचना मुहैया कराने वाली कंपनी वेल्थ-एक्स और यूबीएस ने दुनिया भर के अरबपतियों की साल 2013 की सूची जारी की है.

वेल्थ-एक्स और यूबीएस ने अमरीका, जर्मनी, भारत, सऊदी अरब, ब्राज़ील, दक्षिण अफ़्रीका और ऑस्ट्रेलिया सहित 12 देशों के अरबपतियों के बारे में अध्ययन किया.

अध्ययन में भारत और एशियाई देशों के बारे में कई चौंकाने वाली जानकारियां सामने आईं.

अपने बलबूते रईस

Image caption माइक्रोसॉफ़्ट कॉर्पोरेशन के संस्थापक बिल गेट्स दुनिया के दूसरे सबसे दौलतमंद शख़्स हैं.

अध्ययन के मुताबिक भारतीय अरबपतियों की औसत उम्र 63 साल है, जो दुनिया भर के अरबपतियों की औसत उम्र 62 साल की तुलना में एक साल ज़्यादा है.

अमरीका में रईसों की औसत उम्र सबसे ज़्यादा यानी 67 साल है. इसके बाद कनाडा और जर्मनी (66 साल) आते हैं.

चीन के अरबपतियों की औसत उम्र दुनिया के अरबपतियों के औसत उम्र से नौ साल कम यानी 53 साल है.

शोध बताता है कि चीन के 90 फ़ीसदी अरबपतियों ने अपने दम पर पैसे कमाए. दुनिया भर में चीन का यह आंकड़ा सबसे ज़्यादा है.

केवल पांच फ़ीसदी चीनी अरबपतियों के पास पुश्तैनी जायदाद है और बाक़ियों ने पुश्तैनी जायदाद में अपनी मेहनत से इज़ाफा किया.

Image caption फोर्ब्स पत्रिका के मुताबिक़ दूसरे सबसे धनी भारतीय लक्ष्मी मित्तल हैं.

इस सिलसिले में यदि भारत को देखें, तो चीन की तुलना में अपने बलबूते दौलत बनाने वालों की तादाद कम है. यहां मात्र 47 फ़ीसदी अरबपतियों ने ही ख़ुद अपनी संपत्ति कमाई है.

पुश्तैनी जायदाद की बदौलत अरबपति बने लोगों का हिस्सा 19 फ़ीसदी और बचे हुए 34 फ़ीसदी अरबपतियों ने पुरखों से मिली संपत्ति को अपनी मेहनत से बढ़ाया.

महिला अरबपति

महिला अरबपति की संख्या चीन और भारत दोनों ही देशों में उंगलियों पर गिनी जा सकती है.

अरबपतियों के लिहाज़ से सूची में सबसे ऊपर अमरीका है, जहां 515 अरबपति रहते हैं और यह तादाद चीन के 157 अरबपतियों के मुकाबले तिगुनी है.

पुरुष-स्त्री अनुपात के नज़रिए से देखें, तो आंकड़े बताते हैं कि चीन में पुरुष अरबपतियों की संख्या बहुत ज़्यादा है. चीन में भी भारत की तरह महिलाएं आर्थिक गतिविधियों में पुरुषों की तुलना में पीछे हैं.

भारत में 97 फ़ीसदी अरबपति पुरुष हैं और महिला अरबपतियों की संख्या भारत में महज तीन फ़ीसदी है.

पहली बार विश्व स्तर पर संपत्ति के आधार पर किस देश की हैसियत का आंकलन किया गया है.

वेल्थ-एक्स दुनिया भर में बेहद रईसों के बारे में ख़ुफ़िया जानकारी इकट्ठा करने वाला स्रोत है. इसका मुख्यालय सिंगापुर में है और इसके 12 दफ़्तर दुनिया के विभिन्न देशों में हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार