बैंगलोर: एटीएम हमले में घायल महिला का ऑपरेशन

एटीएम

बैंगलोर में एटीएम में हमले का शिकार हुई महिला की हालत सुधर रही है. बुधवार को उनके दिमाग़ का ऑपरेशन किया गया.

ज्योति नाम की इस महिला से लूटपाट भी की गई थी.

कर्नाटक के गृह मंत्री केजे जॉर्ज ने कहा है कि बैंगलोर में जिन एटीएम पर सुरक्षा नहीं होगी, उन्हें बंद कर दिया जाएगा. जार्ज ने बैंगलोर में पुलिस अधिकारियों की उच्चस्तरीय मीटिंग बुलाकर हालत की समीक्षा की.

उन्होंने कहा, "बैंगलोर में 2500 एटीएम हैं, लेकिन 600 से ज़्यादा में सुरक्षा गार्ड नहीं हैं. अगर तीन दिन में उनमें सुरक्षा गार्ड न उपलब्ध कराए गए, तो उन्हें बंद कर दिया जाएगा."

हालत में सुधार

बैंगलोर के पुलिस कमिश्नर राघवेंद्र औराडकर ने अस्पताल का दौरा कर हमले का शिकार हुई ज्योति से मुलाकात की.

डॉक्टरों का कहना है कि महिला की हालत में सुधार हो रहा है.

44 साल की बैंक मैनेजर ज्योति उदय पर एटीएम में एक बदमाश ने हमला कर दिया था, जब शाम सात बजे वह शहर के एनआर चौराहे पर कॉर्पोरेशन बैंक के एटीएम से पैसे निकालने गई थीं.

पैसे निकालने से मना करने पर हमला

एटीएम में ज्योति के घुसने के कुछ देर बाद एक बदमाश उसमें घुसा. उसने अंदर से एटीएम का शटर बंद कर लिया.

बदमाश ने टॉय गन जैसी चीज़ निकालकर ज्योति को डराया और फिर कपड़े के थैले से छुरा निकाल लिया.

इसके बावजूद ज्योति ने एटीएम से पैसे निकालने से मना कर दिया. इस पर हमलावर ने छुरे से उनके सिर पर वार किया. उनके सिर से खून बहने लगा. वह अचेत हो गईं.

हमलावर उनका बैग, पर्स, मोबाइल फोन और एटीएम कार्ड छीनकर भाग निकला.

क़रीब साढ़े तीन घंटे बाद बैंक अधिकारियों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया. होश में आने पर ज्योति काफ़ी घबराई हुई थीं.

पुलिस ने बताया है कि यह जानबूझकर किया गया हमला नहीं, बल्कि लूट की वारदात है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार