राजस्थान चुनावः 346 करोड़पति उम्मीदवार

वसुंधरा राजे

राजस्थान में एक दिसंबर को होने वाले विधान सभा चुनावों में किस्मत आज़मा रहे उम्मीदवारों में 62 ऐसे भी हैं जिनके ख़िलाफ़ हत्या और अपहरण जैसे गंभीर अपराधों के मामले दर्ज हैं. वहीं चुनाव लड़ रहे 346 उम्मीदवार करोड़पति हैं.

राजस्थान इलेक्शन वॉच (आरईडब्ल्यू) और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) ने सभी अहम पार्टियों भाजपा, कांग्रेस, बसपा, सपा, माकपा, भाकपा और राकांपा के उम्मीदवारों समेत 11 निवर्तमान विधायकों की तरफ से नामांकन के समय चुनाव आयोग को दिए गए शपथ पत्रों का विश्लेषण किया.

धौलपुर की 'रानी' बनेंगी राजस्थान की मुख्यमंत्री?

राज्य विधानसभा की 200 सीटों के लिए कुल 2,087 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. आरईडब्ल्यू और एडीआर ने इनमें से 733 उम्मीदवारों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया.

इनमें से 111 उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले दर्ज हैं जबकि 62 उम्मीदवार ऐसे भी हैं जो हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण और महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराधों के मामलों में अभियुक्त हैं.

कांग्रेस के कुल 199 उम्मीदवारों में से 28 के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले हैं, वहीं भाजपा ने ऐसे 31 उम्मीदवारों को टिकट दिया है.

बसपा के 26 और माकपा के 15 उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले दर्ज हैं.

सबसे अमीर उम्मीदवार

जिन 733 उम्मीदवारों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया गया, उसमें से लगभग आधे यानी 346 करोड़पति हैं.

इन उम्मीदवारों की औसत आय निकाली जाए तो वो 2.97 करोड़ रुपए के आसपास है, जो पिछले विधानसभा चुनाव में 1.43 करोड़ रुपए की औसत आय से कहीं ज्यादा है.

प्रेम विवाह ने खोली चुनाव की खिड़कियां

इस बार के राज्य विधानसभा चुनाव में सबसे अमीर उम्मीदवार कांग्रेस के विश्वेंद्र सिंह हैं जो दीग कुम्हेर सीट से मैदान में हैं. उन्होंने 118.96 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की है.

उनके बाद नीम का थाना सीट से भाजपा के उम्मीदवार प्रेम सिंह हैं जिनके पास 87.70 करोड़ रुपए की घोषित संपत्ति है.

सबसे अमीर उम्मीदवारों की फेहरिस्त में तीसरे नंबर पर निंबाहेड़ा सीट से कांग्रेस की उम्मीदवार अंजना उदयलाल हैं जो 65.55 करोड़ रुपए की संपत्ति की मालिक हैं.

साक्षरता

आरईडब्ल्यू और एडीआर के अनुसार 364 उम्मीदवारों के पास स्नातक और या उससे ऊंची डिग्री है, वहीं 359 उम्मीदवारों की शिक्षा 12वीं कक्षा या उससे कम है.

बात उम्र की जाए तो 733 उम्मीदवारों में से 374 की उम्र 25 से पचास वर्ष के बीच है जबकि 322 उम्मीदवारों की उम्र 51 से 70 वर्ष के बीच है.

राजस्थानः बाग़ी बिगाड़ेंगे किसका खेल

वहीं 36 उम्मीदवारों की उम्र 70 से अधिक है जबकि दो उम्मीदवार ऐसे भी हैं जो 80 वर्ष को पार कर चुके हैं.

इन 733 उम्मीदवारों में से 66 यानी नौ प्रतिशत महिलाएं हैं.

कांग्रेस ने जहां 23 महिलाओं को टिकट दिया है वहीं भारतीय जनता पार्टी ने 26 महिला उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है. बसपा के टिकट पर नौ महिलाएं चुनाव लड़ रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार