तरुण तेजपाल को गिरफ़्तारी से अंतरिम राहत

  • 29 नवंबर 2013

महिला पत्रकार के यौन शोषण के आरोपों का सामना कर रहे तहलका के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल के शुक्रवार शाम गोवा पहुंचने के बाद पुलिस उन्हें लेकर अदालत गई जहां उन्हें अदालत ने अंतरिम राहत देते हुए सुनवाई शनिवार तक के लिए टाल दी है.

गोवा से स्थानीय पत्रकार संदेश प्रभुदेसाई का कहना है कि तरुण तेजपाल को अब शनिवार तक गिरफ्तार नहीं किया जा सकता क्योंकि शनिवार को ही उनकी ज़मानत याचिका पर सुनवाई होगी.

इस पूरे घटनाक्रम पर और जानकारी देते हुए गोवा पुलिस के डीआईजी ओपी मिश्रा ने बीबीसी को बताया, ''तेजपाल ने अग्रिम ज़मानत के लिए स्थानीय अदालत में याचिका दाखिल की थी. कोर्ट में सुनवाई चल रही और सुनवाई पूरी नहीं हुई है, सुनवाई का समय कल सुबह दस बजे तक बढ़ाया गया है. इस पर फैसला कल ही होगा.''

इससे पहले, शुक्रवार सुबह गोवा पुलिस की एक टीम तरुण तेजपाल के दिल्ली स्थित निवास पर भी गई थी जहाँ उन्हें कामयाबी नहीं मिली.

इसके बाद तरुण तेजपाल दिल्ली से गोवा रवाना हुए थे.

तरुण तेजपाल के वकीलों ने पणजी की एक अदालत में अपने मुवक्किल के लिए अग्रिम ज़मानत की अर्ज़ी पेश की थी.

मामला

Image caption तरुण तेजपाल ने मामले को राजनीति से प्रेरित बताया है.

इससे पहले तहलका के संस्थापक और पूर्व संपादक तरुण तेजपाल पर उनकी एक महिला सहयोगी के खिलाफ कथित यौन शोषण का मामला गोवा में दर्ज किया गया था.

ये मामला तहलका पत्रिका के नवंबर महीने में गोवा में हुए एक कार्यक्रम के दौरान हुआ जिसमें दुनिया भर से बड़ी हस्तियां पहुंची थीं.

तरुण तेजपाल ने कथित यौन दुर्व्यवहार के बाद पद से छह महीने के लिए हटने का फ़ैसला किया था.

साथ ही उन्होंने इसके लिए उस सहकर्मी से माफ़ी माँगने की भी बात कही है.

शुक्रवार सुबह करीब छह बजे गोवा पुलिस की एक टीम दक्षिण दिल्ली में स्थित तरुण तेजपाल के घर पहुँच गई थी.

भारतीय मीडिया में आ रही ख़बरों के मुताबिक़ इस टीम के साथ दिल्ली पुलिस का भी दल उनके घर पहुंचा था.

गुरूवार को गोवा पुलिस ने एक स्थानीय अदालत से 50 साल के तरुण तेजपाल के ख़िलाफ़ ग़ैर ज़मानती वारंट तब ले लिया था जब वे निर्धारित समय पर पूछताछ के लिए उपस्थित नहीं हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार