कौन बैठेगा दिल्ली की गद्दी पर, फ़ैसला आज

दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान कुछ सवाल राजनीतिक विश्लेषकों को परेशान कर रहे हैं.

मसलन क्या शीला दीक्षित की अगुवाई में कांग्रेस चौथी बार सत्ता में लौटेगी? या फिर डॉक्टर हर्षवर्धन को दिल्ली की सेहत सुधारने का ज़िम्मा मिल जाएगा.

एक बड़ा सवाल ये भी है कि क्या अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी सरकार बना पाएगी?

इन सवालों के जवाब दिल्ली के एक करोड़ 12 लाख मतदाता देंगे.

ये मतदाता दिल्ली के 11,992 मतदान केंद्रों पर मत डालेंगे. चार लाख पांच हज़ार मतदाता पहली बार अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे.

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में 58.6% मतदान हुआ था. इस बार उम्मीद की जा रही है कि मतदान का प्रतिशत बढ़ेगा.

69 महिला उम्मीदवार

दिल्ली के मतदाताओं के सामने पहली बार ईवीएम मशीन में नोटा (इनमें से कोई नहीं) चुनने का विकल्प भी होगा.

70 सदस्यों वाली विधानसभा के लिए इस बार 810 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. इनमें 108 मुस्लिम उम्मीदवार शामिल हैं. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफ़ॉर्म्स के आकलन के मुताबिक़ चुनाव में हिस्सा ले रहे तमाम राजनीतिक दलों ने जो 796 उम्मीदवार उतारे हैं, उनमें महज़ 69 महिला उम्मीदवार हैं यानी महज नौ फ़ीसदी.

संसद में लंबित 33% महिला आरक्षण विधेयक को किसी भी पार्टी ने व्यावहारिक तौर पर नहीं अपनाया है.

बहरहाल, राज्य में शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव कराने के लिए करीब 70 हज़ार पुलिसकर्मी तैनात होंगे.

इस चुनाव में मुख्य मुकाबला कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी और आम आदमी पार्टी के बीच माना जा रहा है.

चुनावी वादे

इस चुनाव में तीनों दलों ने आम जनता से वादे भी खूब किए हैं. एक नजर इन पार्टियों के चुनावी वादों पर.

शीला दीक्षित, कांग्रेस

Image caption शीला दीक्षित ने लाडली योजना को कॉलेज जाने वाली लड़कियों तक बढ़ाने का वादा किया है.

1. दिल्ली विश्वविद्यालय में सांध्य कॉलेजों की संख्या 30% तक बढ़ाएंगे

2. पांच नए मेडिकल कॉलेज की स्थापना करेंगे. हेल्थ साइंस पर एक यूनिवर्सिटी स्थापित करेंगे

3. लाडली योजना को कॉलेज जाने वाली लड़कियों तक बढ़ाएंगे और 50 हज़ार रुपए की अतिरिक्त मदद देंगे

4. हर विधानसभा क्षेत्र में महिलाओं के लिए कम से कम 20 शौचालय बनवाएंगे

5. बुज़ुर्गों के लिए 10 नए ओल्ड होम्स बनवाएंगे

डॉक्टर हर्षवर्धन, भारतीय जनता पार्टी

Image caption भाजपा का कहना है कि वो दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाएगी.

1. दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाएंगे

2. दिल्ली के कॉलेजों में 85% सीट दिल्ली वालों के लिए सुरक्षित

3. दिल्ली वालों को मुफ़्त जीवनरक्षक दवाओं की आपूर्ति

4. सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था के लिए कॉमन स्मार्ट कॉर्ड चालू करना

5. दिल्ली में ग़रीबों के लिए कम कीमत में घर

अरविंद केजरीवाल, आम आदमी पार्टी

Image caption आम आदमी पार्टी सस्ती बिजली का वादा कर रही है.

1. सभी मोहल्लों में विशेष मोहल्ला सभा का गठन होगा, जो स्थानीय स्तर पर सार्वजनिक सुविधाओं का काम देखेगी

2. दिल्ली वालों को 50% सस्ती बिजली मिलेगी

3. सार्वजनिक परिवहन के लिए एक परिवहन प्राधिकरण बनाया जाएगा

4. हर विधानसभा में सार्वजनिक पुस्तकालय की स्थापना होगी

5. सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को बढ़ाने पर ज़ोर दिया जाएगा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार