कुपवाड़ा: मुठभेड़ में तीन चरमपंथियों की मौत

मोर्चा संभाले सेना के जवान (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption हाल के दिनों में राज्य में घुसपैठ की घटनाओं में बढ़ोतरी आई है

भारत प्रशासित कश्मीर के पुलिस अधिकारियों के मुताबिक़ रात भर चली एक मुठभेड़ में कम से कम तीन पाकिस्तानी चरमपंथियों की मौत हो गई.

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक़ मुठभेड़ सोमवार देर रात कुपवाड़ा के एक सुदूर गाँव राजवार में शुरू हुई.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बीबीसी से कहा,'' पुलिस और सेना ने खुफिया सूचनाओं के आधार पर अभियान शुरू किया था. इस दौरान हम लश्कर-ए-तैयबा के कारी नोमान, अबु वक़ास और उवैद को मार गिराने में कामयाब रहे.'' मुठभेड़ में सेना या पुलिस का कोई नुक़सान नहीं पहुँचा है.

तबाह हुआ घर

राजवार गाँव के एक निवासी ने बताया कि उन्होंने रातभर गोलीबारी की आवाजें सुनीं.

बिलाल मलीक़ नाम के एक युवक ने बताया,'' उस घर में जिसमें चरमपंथी छिपे हुए थे, आधीरात के बाद उसमें आग लगा दी गई. इससे वह पूरी तरह तबाह हो गया. मैंने पुलिस को उस घर से जली हुई लाशें निकालते देखा.''

पुलिस का दावा है कि चरमपंथियों के छिपने वाली जगह से तीन एके-47 राइफ़लें और 10 हथगोले बरामद किए गए हैं.

इससे पहले श्रीनगर के बाहरी इलाक़े में एक अज्ञात हथियारबंद व्यक्ति ने पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी पर हमला कर दिया था. इस हमले में एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी.

राज्य के पुलिस प्रमुख अशोक चांद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की ओर से चरमपंथियों की घुसपैठ पर पहले ही चिंता जता चुके हैं.

सीमा पर दीवार

उन्होंने कहा, '' हाल के हफ़्तों में कम से कम 80 चरमपंथी हमारे क्षेत्र में घुसपैठ कर चुके हैं. वे पूरे कश्मीर घाटी में फैल गए हैं. यहाँ अभियान चलाने के लिए बाहरी शक्तियाँ पैसे दे रही हैं, इससे चरमपंथी और आक्रामक हो गए हैं.''

कुछ सालों तक कम रखने के बाद चरमपंथियों ने इस साल से हमलों में तेज़ी ला दी है.

अधिकारियों का कहना है कि नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ के प्रयासों और जम्मू सांभा सेक्टर में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ़) की एक चौकी पर आतंकी हमले के बाद कुछ सीमाई चौकियों पर 10 मीटर ऊंची क्रंकीट की दीवार बनाई जा रही है, ताकि घुसपैठ के प्रयासों का नाकाम किया जा सके.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार