लोगों को मज़बूत नेतृत्व की ज़रूरत: शरद पवार

शरद पवार
Image caption शरद पवार ने लिखा है कि इन चुनावों में युवाओं की बड़ी भूमिका की वजह से कांग्रेस हारी है.

हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे आते ही यूपीए गठबंधन से असंतोष के स्वर उठने लगे हैं.

एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने पार्टी की वेबसाइट पर जारी एक वक्तव्य में लिखा है कि जनता को 'मज़बूत' नेतृत्व चाहिए.

शरद पवार ने लिखा है कि इन चुनावों में युवाओं की बड़ी भूमिका की वजह से कांग्रेस हारी है.

उन्होंने केंद्र सरकार के खिलाफ़ लोगों के गुस्से पर कांग्रेस और गठबंधन के अन्य दलों से गंभीरता से विचार करने की अपील की है.

शरद पवार ने जारी वक्तव्य में कहा कि लोगों ने अपना गुस्सा वोट की शक्ल में ज़ाहिर किया है.

'मुफ्त की सलाह देने वाले'

Image caption शरद पवार ने बिना नाम आम आदमी पार्टी की ओर इशारा करते हुए पार्टी के सदस्यों को दिखावे के 'सामाजिक कार्यकर्ता' बताया है.

शरद पवार ने बिना नाम आम आदमी पार्टी की ओर इशारा करते हुए पार्टी के सदस्यों को दिखावे का 'सामाजिक कार्यकर्ता' बताया.

उनका कहना था कि न केवल मीडिया बल्कि सरकार में शामिल लोग भी कई बार उनसे प्रभावित हो जाते हैं.

फिर आम आदमी पार्टी का नाम लेकर उन्होंने लिखा है कि पार्टी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान चलाया है लेकिन दिल्ली का वही आम आदमी अवैध रूप से बनी कॉलोनियों को वैध बनाने की बात कह कर आम आदमी पार्टी को वोट डालता है.

इंदिरा गांधी का उदाहरण देते हुए शरद पवार ने ब्लॉग में लिखा है कि अगर देश का नेतृत्व मज़बूत होता और कड़े निर्णय लेने में सक्षम होता तो आज मुफ्त की सलाह देने वाले लोग नज़र नहीं आते.

'असंतोष की वजह से 'आप' को समर्थन'

शरद पवार ने लिखा है कि निर्भया कांड के चलते लोगों में उपजे असंतोष की वजह से उन्होंने 'आप' को समर्थन दिया.

उन्होने लिखा है कि बिना मांगे सलाह देने वाले लोग ऐसे दावे कर रहे हैं जिनका वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं है. वह लोग बिजली, प्याज के दाम और मंगाई के मुद्दे पर गरीब वर्ग को अपना वोट बैंक बना रहे हैं. उन्होंने कहा कि आम तौर पर चुनाव में शामिल ना होने वाले मध्यम वर्ग ने इस बार वोट डाला.

शरद पवार ने कहा कि दावे करना करना आसान है, लेकिन उन्हें पूरा करना मुश्किल. उन्होंने दिल्ली में किसी भी दल को स्पष्ट ना मिलने पर राष्ट्रपति शासन की उम्मीद ज़ाहिर की है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार