ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्र पर हमला, एक गिरफ़्तार

  • 31 दिसंबर 2013
मेलबर्न शहर
Image caption मनरियाजविंदर सिंह मेलबर्न विश्वविद्यालय में कॉमर्स के छात्र हैं.

ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में एक भारतीय छात्र पर हमले के मामले में पुलिस ने एक संदिग्ध को गिरफ़्तार किया है.

20 साल के मनराजविंदर सिंह पर 29 दिसंबर को मेलबर्न में कुछ लोगों ने हमला किया जिसमें वे बुरी तरह घायल हो गए और अभी अस्पताल में कोमा में हैं.

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक मेलबर्न स्थित भारत का वाणिज्य दूतावास इस मामले में स्थानीय पुलिस, अस्पताल और मनराजविंदर सिंह के परिवार के संपर्क में है.

एजेंसी के मुताबिक मेलबर्न पुलिस ने गिरफ़्तार किए गए व्यक्ति को अदालत में पेश किया. इसके अलावा मामले में दो और संदिग्धों की भी पहचान कर ली गई है.

मामला

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक 29 दिसंबर को मेलबर्न विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले मनराजविंदर सिंह और उनके दो दोस्त बिरारुंग पार्क में प्रिंसेस ब्रिज के नज़दीक एक फुटपाथ के पास बैठे थे जब वहां कुछ लोग पहुंचे. इनमें आठ पुरुष और एक महिला थी.

बताया जाता है कि इन लोगों ने मनराजविंदर पर हमला कर दिया. हमलावरों ने उन पर लात-घूंसे बरसाए और लकड़ी से भई मारा जिसके बाद वे बेहोश हो गए.

स्थानीय पुलिस के वक्तव्य में कहा गया है कि हमलावरों ने मनराजविंदर के एक दोस्त को भी मारा जिसके बाद वे उन लोगों के मोबाइल फोन चुराकर वहां से भाग गए. इनका एक तीसरा दोस्त वहां से बच निकलने में कामयाब रहा और उसने जाकर मदद मांगी.

मनराजविंदर सिंह को मेलबर्न के एलफ्रेड अस्पताल में भर्ती करवाया गया है जहां वे कोमा में हैं. उनके दोस्त के चेहरे पर चोट लगी है और मौके पर पहुंचे चिकित्सा कर्मियों ने उनका इलाज किया.

मेलबर्न पुलिस ने हमलावरों की सीसीटीवी फुटेज जारी कर दी है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एडम फोली ने इस घटना को एक कायरतापूर्ण हमला बताया है.

उधर मनराजविंदर सिंह के भाई यदविंदर सिंह ने ऑस्ट्रेलियाई सरकार से हमलावरों को पकड़ने और सज़ा देने की गुहार लगाई है.

उन्होंने कहा, "मैं सिर्फ़ इतना चाहता हूं कि दोषियों को पकड़ा जाए और उन्हें सज़ा मिले ताकि मेरे भाई और उसके दोस्तों जैसे निर्दोष लोगों पर इस तरह से हमला न हो पाए."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार