बलात्कार पीड़िता को जिंदा जलाने की कोशिश हुई: पुलिस

कोलकाता में विरोध प्रदर्शन

कोलकाता में बलात्कार की शिकार 16 साल की लड़की की मौत के बाद विरोध-प्रदर्शन तेज़ हो गया है. लड़की के पिता के मुताबिक़ पुलिस ने उन पर रात भर लड़की का अंतिम संस्कार जल्द से जल्द करने का दबाव डाला.

मंगलवार शाम जब इस लड़की का शव अस्पताल से बाहर लाया गया तो पुलिस ने हस्तक्षेप करते हुए शव वाहन को शवदाह गृह की ओर रवाना कर दिया. हालांकि उस समय शव के साथ उसके परिवार को कोई सदस्य मौज़ूद नहीं था.

बीबीसी संवाददाता अमिताभ भट्टासाली के मुताबिक़ लड़की के शव को मज़दूर संगठन सीटू के दफ़्तर ले जाया गया है. आज दोपहर बाद उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

पुलिस के जवान रात भर इस शवदाह गृह के शव वाहन के पास खड़े होकर उसकी रखवाली करते रहे.

इस बीच पुलिस सूत्रों ने कहा है कि पीड़ित लड़की ने अस्पताल में दिए बयान में कहा है कि उसने आत्महत्या की कोशिश नहीं की. दो लोगों ने उसे ज़िंदा जलाने की कोशिश की. पुलिस ने उन दोनों लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है. उनके खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया गया है.

लापरवाही का आरोप

लड़की के पिता सीटू के टैक्सी चालकों की यूनियन के सदस्य हैं. लड़की के परिवार ने इलाज़ में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए अस्पताल अधिकारियों के खिलाफ एक मामला दर्ज कराया है.

परिजनों ने अस्पताल के अधिकारियों से लड़की के बेहतर इलाज के लिए उसे किसी बढ़िया सरकारी अस्पताल में भेजने का अनुरोध किया था. लेकिन अस्पताल के अधिकारियों ने उन्हें अपने रिस्क पर ऐसा करने को कहा.

कोलकाता के जिस आरजी कर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इस पीड़ित लड़की का इलाज चल रहा था, वहाँ इस तरह जले हुए लोगों के इलाज के लिए बर्न यूनिट नहीं हैं.

विरोध-प्रदर्शन

कोलकाता से बीबीसी संवाददाता अमिताभ भट्टासाली के मुताबिक़, मंगलवार को इस लड़की की मौत की खबर आने के बाद शहर भर में विरोध-प्रदर्शनों का दौर शुरू हो गया. कई संगठनों ने बुधवार को धरना-प्रदर्शन करने की योजना बनाई है.

वहीं प्रदेश में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के सांसद मुकुल रॉय ने इसे प्रदेश सरकार को बदमान करने का प्रयास बताया है. उन्होंने कहा कि पुलिस इस मामले में पहले ही छह लोगों को गिरफ़्तार कर उनके खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है.

समाचार एजेंसियों के मुताबिक़ कोलकाता के बाहरी इलाक़े में दोहरे बलात्कार की शिकार हुई 16 साल की इस लड़की की आरजी कर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के दौरान मंगलवार को मौत हो गई थी.

माध्यमग्राम निवासी इस लड़की ने पिछले साल 23 दिसंबर को दमदम के पास स्थित अपने घर में कथिततौर पर खुद को आग लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया था.

पुलिस के मुताबिक़ एक टैक्सी चालक की इस बेटी के साथ 25 अक्तूबर को बलात्कार हुआ था. उसे स्थानीय लोगों ने एक मैदान में पड़ा हुआ देखा था.

घटना के बाद वह अपने पिता और माँ के साथ जब पुलिस में शिकायत दर्ज कराकर वापस लौट रही थी तो उसी गैंग ने उसका अपहरण कर एक बार फिर उसके साथ बलात्कार किया. उसी दिन वह रेलवे लाइन के किनारे से बेहोश मिली थी.

पुलिस कार्रवाई

बिहार निवासी यह लड़की पिछले साल जुलाई में ही अपने परिवार के साथ कोलकाता आई थी. बलात्कार के बाद मिल रही धमकियों से परेशान होकर उनका परिवार माध्यमग्राम छोड़कर दमदम में रहने आ गया था.

पुलिस ने इस मामले में छह लोगों को गिरफ़्तार किया था. लड़की के परिजनों का आरोप है कि आरोपी गैंग के एक सदस्य छोटू ने 23 दिसंबर को उनके दमदम स्थित घर में घुसकर धमकी दी थी कि अगर लड़की ने पुलिस में दर्ज मामला वापस नहीं लिया तो इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे. इसी के बाद लड़की ने कथित तौर पर आत्महत्या का प्रयास किया.

आरजी अस्पताल के डॉक्टरों ने कहा कि लड़की को 80 फ़ीसदी जली हुई अवस्था में भर्ती कराया गया था. उसकी मंगलवार दोपहर दो बजे के क़रीब मौत हो गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार