स्पीकर को लेकर 'आप' और भाजपा आमने-सामने

दिल्ली विधानसभा में बहुमत हासिल करने से पहले आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी स्पीकर की नियुक्ति के मसले पर आमने-सामने हो गए हैं.

भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि वो विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए 'आप' उम्मीदवार के खिलाफ अपना प्रत्याशी उतारेगी.

इससे पहले दिल्ली विधानसभा में प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति काफी चर्चा में रही थी क्योंकि भाजपा और 'आप' दोनों ने ही अपना प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने से इनकार कर दिया था.

इसके बाद कांग्रेस के विधायक मतीन अहमद को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया.

भाजपा देगी चुनौती

ताज़ा घटनाक्रम के तहत भाजपा के वरिष्ठ विधायक जगदीश मुखी ने दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष के लिए नामांकन दाख़िल कर दिया है. दूसरी ओर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार एम एस धीर होंगे. धीर भी अपना नामांकन दाखिल कर चुके हैं.

जगदीश मुखी लगातार पांचवीं बार विधानसभा का चुनाव जीते हैं. वह जनकपुरी से विधायक हैं. विधानसभा सत्र सात जनवरी तक चलेगा.

भाजपा का कहना है कि वो बहुमत न होने के बावजूद भी विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव लड़ती आई है और इस बार भी वह चुनाव लड़ेगी.

दिल्ली विधानसभा में गुरुवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार ने विश्वासमत पेश किया.

शक्ति परीक्षण

दिल्ली की 70 सदस्यों वाली विधानसभा में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. आम आदमी पार्टी के 28 विधायक हैं और उसे कांग्रेस के आठ विधायकों का बाहरी समर्थन मिला है.

जनता दल (यू) के विधायक शोएब इकबाल ने भी 'आप' को समर्थन देने का ऐलान किया है.

मुख्य विपक्षी दल भाजपा के पास 31 विधायक हैं और उसके सहयोगी अकाली दल का एक विधायक है.

भाजपा ने अपने सभी विधायकों को केजरीवाल सरकार के विश्वासमत के विरोध में वोट डालने के लिए व्हिप जारी किया है.

इस बीच दिल्ली विधानसभा की कार्रवाई शुरू होते ही भाजपा के विधायकों ने आम आदमी पार्टी के विधायकों की टोपी पर आपत्ति दर्ज करते हुए हंगामा किया. भाजपा विधायकों का कहना था कि यह टोपी आम आदमी पार्टी की पहचान बन चुकी है और उस पर पार्टी के प्रतीक चिन्ह भी अंकित है, जबकि विधानसभा में किसी राजनीतिक दल के प्रतीकों को लाना मना है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार