रसोई गैस के बाद अब महंगा हुआ पेट्रोल- डीज़ल

भारतीय तेल
Image caption पेट्रोल की कीमतों में 75 पैसे और डीजल की कीमतों में 50 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी की गई है.

नए साल के पहले ही दिन बिना सब्सिड़ी वाले रसोई गैस सिलेंडर पर 220 रुपए बढ़ाने के बाद तेल कंपनियों ने एक बार फिर से पेट्रोल और डीज़ल की कीमतें बढ़ा दी है.

शुक्रवार रात से प्रतिलीटर पेट्रोल की कीमतों में 75 पैसे और डीजल की कीमतों में 50 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी की गई है.

अभी कुछ दिन पहले ही दिल्‍ली एनसीआर में सीएनजी की कीमत भी 5 रुपए बढ़ी थी.

कीमतों में वृद्धि के बाद दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 72.43 रुपए प्रति लीटर, मुंबई में 79.52 रुपए, कोलकाता में 79.55 रुपए और चेन्नई में 75.68 रुपए प्रति लीटर होगी.

इंडियन ऑयल कारपोरेशन ने मूल्यवृद्धि की घोषणा करते हुए कहा कि इस मूल्यवृद्धि के बाद भी पेट्रोलियम कंपनियों को डीजल की प्रति लीटर बिक्री पर 9.24 रुपये का नुकसान हो रहा है. अधिकारियों ने कहा कि मूल्यवृद्धि एक जनवरी को होनी थी, लेकिन कंपनियों ने ऐसा नहीं किया, क्योंकि ऐसा होने पर इसे कंपनियों की तरफ से नए साल का तोहफा कहा जाता.

इससे पहले 21 दिसंबर को पेट्रोल और डीज़ल की कीमतें बढ़ाई गई थीं और उस समय पेट्रोल 41 पैसे और डीज़ल 10 पैसे महंगा हुआ था.

वर्तमान व्यवस्था के तहत तेल कंपनियां हर दो सप्ताह के बाद पेट्रोल की कीमतों की समीक्षा करती है.

जून 2010 के बाद से लागू नए आर्थिक माहौल में सरकारी कंपनियाँ पेट्रोल के दाम बढ़ाने के लिए स्वतंत्र हैं. जबकि डीज़ल की कीमतों पर अभी भी सरकार का नियंत्रण है.

भारत तेल की अपनी 80 प्रतिशत जरूरतों के लिए आयात पर निर्भर है.

संबंधित समाचार