भारत ने अमरीकी राजनयिक को हटाने के लिए कहा

देवयानी खोबरागड़े
Image caption देवयानी खोबरागड़े पर अपने वीज़ा फॉर्म में ग़लत जानकारी देने का आरोप है.

भारत सरकार ने शुक्रवार को अमरीका से उसके दिल्ली दूतावास के एक अधिकारी को भारत से वापस बुला लेने के लिए कहा है.

इस अधिकारी को देवयानी खोबरागड़े के स्तर का बताया जा रहा है. हालाँकि अभी इस अधिकारी के नाम की पुष्टि नहीं हो सकी है.

भारत सरकार का यह फ़ैसला उस समय आया है जब भारतीय राजनयिक देवयानी खोबरागड़े वापस भारत के लिए रवाना हो चुकी हैं.

सरकारी सूत्रों ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि भारत के पास यह विश्वास करने के पूरे कारण हैं कि ये अधिकारी खोबरागड़े मामले की प्रक्रिया से जुड़ा हुआ था.

बीबीसी के कूटनीतिक संवाददाता जोनाथन मार्कस का कहना है कि भारत सरकार के इस कदम से यही निष्कर्ष निकलता है कि भारत खोबरागड़े के भारत वापस आने को निष्कासन मानकर चल रहा है. अब देखा जाना है कि इस जवाबी कार्रवाई का दोनों देशों के दूरगामी संबंधों पर क्या असर पड़ेगा.

मामला

भारतीय राजनयिक खोबरागड़े पर वीज़ा में धोखाधड़ी, ग़लत बयान देने और अपनी नौकरानी को कम वेतन देने का आरोप है. उन पर इस मामले में न्यूयॉर्क में मुक़दमा चल रहा है.

देवयानी ने इन आरोपों से इनकार किया है.

देवयानी के वकील डेनियल अर्शेक ने बीबीसी को शुक्रवार सुबह जानकारी दी थी कि देवयानी भारत के लिए चल चुकी हैं.

उनके वकील का कहना था कि देवयानी भारत वापस लौटते हुए बहुत खुश थीं. देवयानी ने अपने वकील से कहा कि उन्होंने कोई ग़लती नहीं की है और वे चाहती हैं कि सबको सच्चाई पता चले.

इस मामले में देवयानी को हथकड़ी पहनाए जाने और निर्वस्त्र तलाशी लिए जाने के बाद भारत ने इसके लिए अमरीका से माफ़ी माँगने की मांग की थी.

वहीं अमरीका सरकार ने कहा था कि उसने निर्धारित प्रक्रिया का पालन किया है.

देवयानी को उनकी नौकरानी संगीता रिचर्ड की शिकायत पर गिरफ़्तार किया गया था.

वहीं देवयानी ने संगीता पर चोरी करने और ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया था.

भारत सरकार ने देवयानी की गिरफ़्तारी के बाद कहा था कि वो इस देवयानी के गिरफ़्तारी के तरीके से 'अचंभित और आहत' है.

कूटनीतिक जवाब

Image caption भारत ने दिल्ली स्थित अमरीकी दूतावास के सामने से बैरीकेड्स हटवा दिए थे.

जवाबी कूटनीतिक कार्रवाई करते हुए भारत ने दिल्ली स्थित अमरीकी दूतावास के सामने से बैरीकेड्स हटवा दिए थे.

वहीं भारतीय राजनीतिज्ञों ने भारत यात्रा पर आए अमरीकी प्रतिनिधि मंडल से मिलने से इनकार कर दिया था.

बुधवार को भारत सरकार ने अमरीकी दूतावास में किसी भी तरह की 'व्यावसायिक गतिविधियों के संचालन' को बंद करने का आदेश दिया था.

भारत सरकार ने यह भी कहा कि अगर अमरीकी दूतावास की कारों ने यातायात के नियम तोड़े तो उन्हें सज़ा दी जाएगी.

समाचार चैनल एनडीटीवी के अनुसार अमरीकी दूतावास को उसके परिसर में स्थित एक क्लब को बंद करने के लिए कहा गया है.

इस क्लब में स्विमिंग, रेस्टोरेंट और टेनिस कोर्ट सहित कई अन्य सुविधाएँ हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार