सलमान ख़ान: नरेंद्र मोदी से प्यार, या अपना व्यापार

नरेंद्र मोदी, सलमान ख़ान इमेज कॉपीरइट Reuters

मंगलवार को अभिनेता सलमान ख़ान और भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की मुलाक़ात मीडिया की सुर्खियां बनी. मकर संक्राति के मौक़े पर अहमदाबाद में आयोजित एक ख़ास कार्यक्रम में सलमान ख़ान ने नरेंद्र मोदी के साथ पतंग उड़ाई और फिर लंच में भी उनके साथ शिरक़त की.

सलमान से हुई इस ख़ास मुलाक़ात का उत्साह नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर भी बांटा. इससे पहले रविवार को सलमान ख़ान ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की भी जमकर तारीफ़ की थी.

(आलिया का बचाव)

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में पत्रकारों से बात करते हुए सलमान ने कहा था, "मैं देश में हर उस आदमी के साथ हूं जो अच्छा काम कर रहा है जैसे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बढ़िया काम कर रहे हैं. यही वजह है कि मध्य प्रदेश के लोगों ने उन्हें तीसरी बार चुना. वो बहुत क़ाबिल आदमी हैं."

आलोचना

इमेज कॉपीरइट twitter

सलमान, उत्तर प्रदेश की अखिलेश सिंह सरकार द्वारा आयोजित सैफ़ई महोत्सव में भी जमकर नाचे थे. इसके लिए उनकी कड़ी आलोचना भी हुई थी. मुज़फ़्फ़रनगर दंगों के बाद राहत कैंपों में रह रहे लोगों की ख़राब हालत के बावजूद सैफ़ई जैसे रंगारंग समारोह में हिस्सा लेने के लिए उन्हें असंवेदनशील कहा गया था.

(क्यों बनाया सलमान को ब्रांड एंबेसडर ?)

सवाल यही उठता है कि अचानक से ये राजनेताओं के लिए सलमान ख़ान के मन में इतना प्रेम कैसे उमड़ आया. पहले अखिलेश सिंह, फिर शिवराज सिंह चौहान और अब नरेंद्र मोदी.

लेकिन शायद सलमान ने इंदौर में सैफ़ई महोत्सव में शामिल होने के लिए अपनी सफ़ाई दी उसी में इस बात का रहस्य छिपा है.

प्रमोशन ?

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा था, "मैं हर शहर में अपनी फ़िल्म जय हो के प्रमोशन के लिए जा रहा हूं और इस सिलसिले में भी मैं सैफ़ई गया था. इस बात का जवाब मैं पहले भी दे चुका हूं." सलमान ने ये भी कहा था कि वो उत्तर प्रदेश के ग़रीब बच्चों के इलाज के लिए अपनी तरफ़ से दान दे रहे हैं.

तो क्या सलमान अपनी फ़िल्म की रिलीज़ से पहले उसका हाइप बनाने के लिए ही लगातार नेताओं से मुलाक़ातें कर रहे हैं. और उनकी तारीफ़ें कर रहे हैं.

सलमान ख़ान की फ़िल्म 'जय हो', 24 जनवरी को रिलीज़ हो रही है. इससे पहले उन्हें नेताओं के साथ ज़्यादा उठते बैठते नहीं देखा गया है. अचानक से इतने कम अंतराल में तीन बड़े नेताओं से उनकी मुलाक़ात क्या महज़ एक इत्तेफ़ाक़ है या 'जय हो' के प्रमोशन की तरकीब. इसका जवाब सलमान ही बेहतर जानते होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार