मुंबई: सैयदना के अंतिम दर्शन में भगदड़, 18 की मौत

डॉ. सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption बोहरा समुदाय के धार्मिक गुरु डॉ. सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन 102 साल के थे

दाऊदी बोहरा समुदाय के धर्मगुरु डॉ. सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन के अंतिम दर्शन कार्यक्रम में भगदड़ से 18 लोगों की मौत हो गई है.

मुंबई के पुलिस आयुक्त सत्यपाल सिंह ने इस भगदड़ में 18 लोगों के मौत की पुष्टि की है.

भीड़ पर नियंत्रण के लिए पुलिस कमिश्नर की तरफ़ से रैपिड एक्शन फ़ोर्स (आरएएफ़) को बुलाया गया है.

सैयदना को तीन घंटे की शवयात्रा के बाद भिंडी बाज़ार में दाऊदी बोहरा समुदाय की दरगाह में दफ़न किया जाएगा.

मुंबई में संवाददाता मधु पाल के मुताबिक़ बोहरा समुदाय के पिछले धर्मगुरु और उनके पिता भी इसी दरगाह में दफ़न हैं.

बोहरा समुदाय के धर्मगुरु के अंतिम दर्शन के सुबह बड़ी तादाद में लोगों की भीड़ जमा थी. बोहरा समुदाय के धर्मगुरु के दर्शन के लिए बैंगलोर, हैदराबाद और दुबई से लोग आए थे.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक़ इस भगदड़ में कई लोगों के घायल होने की ख़बर है और मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है.

ज़ख्मी लोग सैफ़ी अस्पताल में

Image caption 59 लोगों को सैफ़ी अस्पताल में भर्ती कराया गया.

इस भगदड़ में घायल हुए लोगों को बोहरा समुदाय के अस्पताल सैफ़ी में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है.

इस अस्पताल में 59 घायल लोगों को भर्ती कराया गया था, जिसमें से 56 लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है लेकिन तीन लोगों की हालत अब भी बेहद नाज़ुक बनी हुई है.

बुरहानुद्दीन का निधन शुक्रवार सुबह दक्षिण मुंबई स्थित उनके आवास पर हुआ. दक्षिण मुंबई के इस इलाके में बड़ी तादाद में बोहरा समुदाय के लोग रहते हैं.

वह 102 साल के थे और कुछ ही सप्‍ताह बाद अपना 103वां जन्‍मदिन मनाने वाले थे.

डॉ. सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन का जन्मदिन हर साल बड़ी धूमधाम से मनाया जाता रहा है और उनके अनुयायी दूर-दूर से आते थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार