'अविवेक' का नया उत्सव है आप?

राजनीतिक विश्लेषक अपूर्वानंद की राय

अरविंद केजरीवाल इमेज कॉपीरइट AP

क्रांति सतत चलने वाली प्रक्रिया है और असली विद्रोही वह है जो छह महीने बाद अपनी कुर्सी ख़ुद उलट दे.

ये दोनों ही बातें अभी दिल्ली में घटित होती हुई दिखाई दे रही हैं. आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार के मुखिया केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ बग़ावत का नेतृत्व कर रहे हैं.

दिल्ली के केंद्र में रेल भवन के पास दिल्ली की पूरी सरकार अब अपने समर्थकों के साथ दस दिनों केधरनेपर बैठ गए हैं. क्या यह 2014 का भारतीय तहरीर चौक होने जा रहा है?

('आप' के प्रवक्ता आशुतोष की राय जानने के लिए क्लिक करें)

दिल्ली के मुख्यमंत्री इसे आज़ादी की नई लड़ाई बता रहे हैं. यह दृश्य क्रांतिकारियों, समाजवादियों, अराजकतावादियों, सबके के लिए एक पुराने सपने का पूरा होना ही है.

आम आदमी पार्टी ने पिछले एक हफ़्ते में अपने समर्थकों को भी असमंजस में डाल दिया है. कहा जा रहा है कि क़ानून मंत्री ने अपने सहयोगियों के साथ अफ्रीकी महिलाओं पर छापा मारा और उन्हें डॉक्टरी जांच एक लिए मजबूर किया.

जो यह माने बैठे थे कि यह पार्टी संवैधानिक प्रक्रियाओं के पालन के लिए आन्दोलन कर रही थी, वे देखकर अचम्भे में हैं कि हर मिनट प्रक्रिया की परिभाषा बदलने में इस पार्टी को कोई संकोच नहीं है.

अब यह साफ़ हो गया है दो वर्ष पहले से भारतीय लोकतंत्र के पहले प्रामाणिक विद्रोही का दावा पेश करने वाले अरविंद केजरीवाल अभी इस भूमिका को और आगे निभाना चाहते हैं.

ऐसा लगता है कि यह एक ऐसा दल है जो अपनी किसी भी आलोचना को बर्दाश्त करने को तैयार नहीं.

जब इससे यह पूछा गया कि क्या बिना वारंट, बिना किसी प्रक्रिया के किसी मकान पर, ख़ासकर जहां महिलाएं रहती हों, छापा कैसे मारा जा सकता है और इसके मंत्री की चौतरफ़ा आलोचना होने लगी, पार्टी ने तय किया कि इस सवाल का सामना करने की जगह पुलिस ज़्यादती के ख़िलाफ़ आन्दोलन शुरू कर देने का वक़्त है.

ऐसा करके ही शायद आम आदमी पार्टी अपने मंत्री और सदस्यों के बर्ताव की ओर से ध्यान हटा सकती है. इन शब्दों के लिखे जाते वक़्त दिल्ली के क़ानून मंत्री के विवादित क़दम को भुलाया जा चुका है. इस तरह आम आदमी पार्टी अपने ‘अपराध’ से ध्यान हटाने में कामयाब हो गई है.

आम आदमी पार्टी का तरीक़ा इंडिया अगेंस्ट करप्शन के अध्ययन से समझा जा सकता है. वह आन्दोलन जन लोक पाल क़ानून के लिए शुरू हुआ था.

लेकिन आप जब भी उसके ब्योरों पर बात करना चाहते हैं तो आपको कहा जाता कि यह दरअसल भ्रष्टाचार के खिलाफ है. अगर आप इस आन्दोलन के साथ नहीं हैं, तो निश्चय ही भ्रष्टाचार के साथ हैं. वही तरकीब अभी अपनाई गई है.

आम आदमी पार्टी के बारे में कहा गया कि इसे भारतीय संसदीय राजनीति की पुरानी भाषा में समझना मुश्किल है.

इससे किसी विचारधारा की मांग करना एक तरह की दकियानूस समझ है और यह एक नया वाम है जो इस व्यवस्था को पूरी तरह से उलट कर रख देने को आया है.

यह भी कहा गया कि यह पार्टी जो कहती है उस पर इस टिके रहने के लिए कहना भी ग़लत है. एक तरह से यह शहरी गुरिल्ला दल है जो अपनी रणनीति के बारे में नीति के तर्क को मानने से इनकार कर रहा है. हो सकता है कि माओवादी भी इससे शायद कुछ सीखने की सोच रहे हों!

आम आदमी पार्टी भारतीय समाज और राजनीति की सड़ांध से पैदा हुई है. ऐसा लगता है कि उसकी कोई दिलचस्पी राजनीति के परिष्कार में नहीं है. मेरा मानना है कि यह समाज की निम्नतम प्रवृत्तियों को उकसा कर उन्हीं के बल पर ताक़त हासिल करना है.

यह तुरंत फ़ैसला करने की, फ़ौरन सज़ा देने की, दूसरों को बेइज़्ज़त करने की प्रवृत्ति है. यह मूलतः अभिजात्य की विरोधी सबाल्टर्न हिंसा को उकसा कर ही बल प्राप्त करती है.

यह गाली गलौज की जुबान को सामान्य बना कर इस हिंसक वृत्ति को संतुष्ट करती है.

जब मुख्यमंत्री यह कहता है कि मैं पुलिस चीफ को देख लूंगा, तो सबसे नीचे की पायदान पर बैठे व्यक्ति को उससे अपनापन मालूम पड़ता है.

इस तरह के आन्दोलन हमेशा जनवादी या समाजवादी भाषा में चलाए जाते है लेकिन उनकी अंतर्वस्तु अनियंत्रित सत्ता हासिल करने की होती है.

ऐसा आंदोलन हमेशा अपने नेता की महानता, ईश्वर के अपनी निकटता और उसके इरादों के निष्कलुष होने के दावे पर टिका होता है. कहीं यह राजनीति टकराव को बढ़ाने, तापमान ऊँचा करने, उत्तेजना को तीव्र करने की रणनीति पर आधारित तो नहीं है ताकि तर्कपूर्ण बातचीत नामुमकिन हो जाए.

आम आदमी पार्टी की प्रशंसा विचारधारा से अलग रोज़मर्रा के सवालों पर व्यावहारिक रवैया अपनाने की वजह से की जा रही थी.

अब यह पता चला कि इसका इरादा रोज़मर्रा के प्रश्नों में था ही नहीं. इसका इरादा नए टकराव के लिए अपनी जगह को और बढाने के अलावा शायद और कुछ कभी नहीं था. सरकार में आना भी इसी तरकीब का एक हिस्सा था .

आम आदमी पार्टी पैदा इसलिए हुई कि भारत में जनता से राजनीति का संवाद टूट गया है. दिल्ली की सड़क पर जो अराजकता दिखाई दे रही है, जिसके नतीजे ख़तरनाक हो सकते हैं, उसके लिए अभी की लोकतांत्रिक राजनीति की जनता के प्रति उदासीनता ही रही है.

उस शून्य को भावनात्मक उत्तेजना से आम आदमी पार्टी ने भरने का दावा किया है. इस उत्तेजना में किसी विवेक की मांग करना अविवेकपूर्ण ही जान पड़ेगा. इन परिस्थितियों में ऐसा लगता है कि आम आदमी पार्टी ‘अविवेक’ का नया उत्सव है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

'आप' के प्रवक्ता आशुतोष की राय

इमेज कॉपीरइट AFP

हमारा पैग़ाम बहुत स्पष्ट है, हम चाहते हैं कि दिल्ली में घर से बाहर निकलने वाली हर लड़की हर महिला सुरक्षित घर पहुंचे. दिल्ली को अपराध नगरी कहा जाने लगा है जो महिलाओं के लिए सबसे अधिक असुरक्षित है.

इसकी वजह ये है कि दिल्ली की पुलिस जबावदेह नहीं है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इसी जबावदेही और महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए धरने पर बैठे हैं.

केजरीवाल सरकार को दिल्ली पुलिस से सहयोग मिल रहा है या नहीं, ये एक अलग मसला है. अलग इसलिए है क्योंकि आप देखें कि पिछले दिनों ऐसी तीन-तीन घटनाएं हुई हैं. उस इलाक़े के लोग परेशान थे. उन्होंने अपने इलाक़े से आने वाले मंत्रियों से सम्पर्क करने की कोशिश की.

फिर मंत्री मौके पर पहुंचते हैं जहां पुलिस सहयोग करने और अपराधियों पर शिकंजा कसने के बजाए मंत्रियों को ही चुनौती देती है, उनकी बात नहीं सुनती.

जब किसी राज्य की पुलिस मंत्रियों की ही नहीं सुन रही है तो आम आदमी की बात क्या सुनेगी. इसीलिए ये सवाल अहम हो गया है.

संबंधित पुलिस अधिकारियों को निलंबित करना इस पूरे मसले की पहली और बहुत छोटी प्रक्रिया है. लेकिन सिर्फ़ निलंबित किये जाने से बात नहीं बनने वाली, पूरे तंत्र में आमूलचूल बदलाव करने की ज़रूरत है.

चुनी हुई सरकार के प्रति पुलिस को जबावदेह होना पड़ेगा और इसी तरह पुलिस को आम लोगों के प्रति संवेदनशील भी बनना होगा. ये सवाल बहुत बड़ा है जो सिर्फ़ आम आदमी पार्टी की ओर से ही नहीं उठाया जा रहा है.

पुलिस में आम लोगों की आस्था कम होने की वजह से यही आम लोग पिछले डेढ़-दो साल में कई बार सड़कों पर उतर चुके हैं.

आम आदमी की हालत ये है कि यदि उसे अपनी कोई शिकायत लिखानी है तो इससे पहले उसे थाने में शर्मसार होना पड़ता है, बिना शर्मिन्दगी झेले कोई आम इंसान पुलिस के पास जा ही नहीं सकता है.

रही बात सोमनाथ भारती पर लगाए गए आरोपों की, तो आप देखिए जिस इलाके की ये घटना है, वोसोमनाथ भारतीका ही इलाका है जहां ड्रग्स और वेश्यावृत्ति का धंधा काफ़ी समय से चल रहा है.

स्थानीय लोगों ने इस बारे में मंत्री को बाक़ायदा लिखित में शिकायत दी है. लोगों ने सोमनाथ भारती से सम्पर्क तब किया जब पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.

सोमनाथ भारती ने वहां जाने से पहले स्थानीय पुलिस अधिकारियों से सम्पर्क किया था और इसके बाद ही वे वहां पहुंचे थे. मुझे लगता है कि इस पूरे मामले को जान-बूझकर तोड़ा-मरोड़ा जा रहा है.

सोमनाथ भारती का अपराध बस इतना है कि उन्होंने अपने इलाक़े के लोगों की समस्याओं को सुनने का काम किया और पुलिस को जबावदेह बनाने की मांग की है.

उन्हें सराहा जाना चाहिए लेकिन इसके ठीक विपरीत उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग की जा रही है.

हमारे देश में नेताओं को एसी कमरों में रहने और एसी गाड़ियों में घूमने की आदत लग गई है और एक बार चुने जाने के बाद फिर वो पांच साल बाद ही नज़र आते हैं.

मुझे लगता है कि भारत की इस राजनीतिक संस्कृति को बदलने की ज़रूरत है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मामले में सबसे पहले लेफ्टिनेंट गर्वनर से बात करने की कोशिश की, फिर गृह मंत्री से बात करने का प्रयास किया और जब उन्होंने भी बात नहीं सुनी तब उन्हें बाध्य होकर धरने पर बैठना पड़ा.

जब नये तरीके की राजनीति होगी, जहां लोगों की भागीदारी होगी, उसे कुछ लोग पसंद करेंगे, कुछ लोग नापसंद करेंगे.

कुछ लोग इसे अपनी तरह से तोड़ने-मरोड़ने की कोशिश भी करेंगे, मुझे लगता है हमें इस बात को समझने की ज़रूरत है.

(बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार