सोमनाथ भारती पर फ़िलहाल कोई कार्रवाई नहीं: 'आप'

सोमनाथ भारती के ख़िलाफ़ प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट PTI

आम आदमी पार्टी ने दक्षिणी दिल्ली के एक इलाक़े में युगांडा की कुछ महिलाओं के साथ कथित दुर्व्यवहार के मामले में फंसे क़ानून मंत्री को फ़िलहाल क्लीन चिट दे दी है. गुरूवार को पार्टी की पॉलिटिकल अफ़ेयर्स कमेटी (पीएसी) की बैठक के बाद ये फ़ैसला लिया गया.

पीएसी की बैठक के बाद 'आप' के वरिष्ठ नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि इस बात का एक भी सबूत नहीं है कि भारती ने यूगांडा की महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार किया था.

योगेंद्र यादव ने कहा कि इस मामले में दिल्ली के उपराज्यपाल ने न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं और जांच रिपोर्ट के बाद ही कोई अंतिम फ़ैसला किया जाएगा.

सोमनाथ भारती का बचाव करते हुए यादव ने कहा, ''सोमनाथ भारती ने इस मामले में जो दख़ल दी वो किसी व्यक्तिगत स्वार्थ या अहम के चलते नहीं, बल्कि वहां के नागरिकों की समस्या के जवाब में दी. सोमनाथ ने जो जवाब दिया वो जनप्रतिनिधि के रूप में उनकी ज़िम्मेवारी बनती थी.''

न केवल बचाव बल्कि सोमनाथ भारती की 'हरकत' की प्रशंसा करते हुए योगेंद्र यादव ने कहा, ''इसमें न तो कोई भ्रष्टाचार है, न कोई बेजा काम है, न इसमें कोई अन्याय है. एक जनप्रतिनिधि के रूप में सोमनाथ की तारीफ़ की जानी चाहिए कि उन्होंने अपने दुख-सुख का ध्यान किए बिना, जनता के दुख-सुख को सुना, उनके साथ गए.''

सोमनाथ भारती पर आरोप है कि पिछले सप्ताह दक्षिणी दिल्ली के खिड़की टेंशन इलाक़े में रह रही कुछ अफ़्रीक़ी महिलाओं के मकानों की तलाशी लेने और उन्हें गिरफ़्तार करने के लिए पुलिस को आदेश दिए जिसे मौक़े पर मौजूद पुलिस अधिकारियों ने मानने से इनकार कर दिया था.

'आप' पार्टी और सरकार का कहना है कि पुलिस की जानकारी में वहां ड्रग्स और वेश्यावृत्ति का धंधा होता है जबकि दिल्ली पुलिस का कहना है कि क़ानून मंत्री ने पुलिस के काम में दख़लअंदाज़ी करने की कोशिश की.

आरोप

भारती पर ये आरोप भी हैं कि वे अपने समर्थकों की मदद से कुछ महिलओं को जबरन एम्स अस्पताल ले गए और उनका मेडिकल टेस्ट करवाया.

इमेज कॉपीरइट AFP

पार्टी ने युगांडा की महिलाओं के साथ कथित अभद्र व्यवहार पर तो क़ानून मंत्री का साथ दिया है लेकिन सार्वजनिक रूप से उनके ज़रिए दिए गए कुछ बयानों की निंदा की है.

पार्टी ने सोमनाथ भारती को अपने बयानों के लिए माफ़ी मांगने की सलाह दी है और आइंदा इस तरह की भाषा से परहेज़ करने को कहा है.

ग़ौरतलब है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जब दिल्ली पुलिस के कुछ अधिकारियों के निलंबन और तबादले की मांग को लेकर रेल भवन के सामने धरने पर बैठे थे उस समय एक भाषण के दौरान सोमनाथ भारती ने राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष भाजपा के अरूण जेटली और सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश सालवे के ख़िलाफ़ बहुत ही अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया था.

इस्तीफ़े की मांग

इस बीच सोमनाथ भारती के इस्तीफ़े के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर दबाव बढ़ता जा रहा है.

दिल्ली महिला आयोग ने तो पहले ही भारती को समन भेज रखा है, गुरूवार को कांग्रेस और भाजपा दोनों ने उनके इस्तीफ़े की मांग तेज़ कर दी.

गुरूवार को प्रदेश अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली की अध्यक्षता में कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने उप-राज्यपाल नजीब जंग से मुलाक़ात की और उनसे दिल्ली पुलिस को निर्देश दिए जाने की अपील की ताकि पुलिस इस मामले में पूरी ईमानदारी से जांच करे.

लवली के अनुसार पुलिस ने अभी तक इस मामले में ठीक से जांच नहीं की है.

उधर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने सोमनाथ भारती की तत्काल बर्ख़ास्तगी की मांग की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार