अब हर साल नौ की जगह 12 सिलेंडर मिलेंगे

इमेज कॉपीरइट AFP

केंद्र सरकार ने हर घर के लिए सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडरों का कोटा नौ से बढ़ाकर 12 कर दिया है.

इसके साथ ही मंत्रिमंडल ने गैस पर दी जाने वाली सब्सिडी को आधार के ज़रिए बैंक में ट्रांसफर करने की योजना को फिलहाल रोक लगा दी है.

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पिछले दिनों कांग्रेस पार्टी के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि सिलेंडरों की संख्या नौ से बढ़ाकर 12 की जानी चाहिए.

राजनीतिक मामलों की कैबिनेट कमिटी की बैठक में यह फैसला हुआ, जिसके तहत फरवरी महीने से हर घर को हर महीने एक सिलेंडर मिल सकेगा.

केंद्रीय मंत्री वीरप्पा मोइली ने इस बाबात जानकारी देते हुए कहा कि सब्सिडी पर दिए जाने वाले इन सिलेंडरों की संख्या बढ़ाने से केंद्र पर पांच हज़ार करोड़ रुपए का भार बढ़ेगा.

रोक

मोइली ने ये भी बताया कि एलपीजी यानी रसोई गैस पर दी जाने वाली सब्सिडी को आधार कार्ड के ज़रिए बैंक में ट्रांसफर करने की योजना को फिलहाल रोक दिया गया है.

रसोई गैस पर सब्सिडी, इसकी संख्या और सब्सिडी को आधार कार्ड से जोड़ने का मुद्दा बेहद संवेदनशील रहा है.

सरकार ने कुछ समय पहले हर घर के लिए सब्सिडी पर दिए जाने वाले सिलेंडरों की संख्या एक वर्ष में छह तय की थी जिसका पुरज़ोर विरोध हुआ था. विरोध के बाद सरकार ने यह संख्या बढ़ा कर नौ की थी.

हालांकि कई लोग नौ सिलेंडरों के कोटे का भी विरोध कर रहे थे और हर तरफ से इस संख्या को बढ़ाने का दबाव था.

हालांकि राहुल गांधी ने जब इस बाबत मांग उठाई तो तय लग रहा था कि कुछ दिनों में गैस सिलेंडरों की संख्या प्रति वर्ष 12 कर दी जाएगी.

जानकारों का मानना है कि सरकार का ये कदम आने वाले चुनावों के मद्देनज़र लिया गया है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार