अरुणाचल के युवक की 'संदेहास्पद मौत'

  • 31 जनवरी 2014
लाजपत नगर थाना

अरुणाचल प्रदेश के एक युवक की दिल्ली में शुक्रवार को संदेहास्पद स्थितियों में मौत हो गई.

18 वर्षीय नीडो तनियन के परिजनों और मित्रों का कहना है कि बुधवार को कुछ स्थानीय दुकानदारों ने इस युवक की सामूहिक पिटाई की थी.

पुलिस का कहना है कि वो इस मामले की जाँच कर रही है.

नीडो स्नातक प्रथम वर्ष का छात्र था. उनके पिता नीडो पवित्रा अरुणाचल प्रदेश से कांग्रेस के विधायक हैं.

पुलिस का कहना है कि नीडो तनियन के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट 'बेनतीजा' रही. आगे की जांच करने के लिए उनका विसरा सुरक्षित रखा गया है.

अरुणाचल प्रदेश स्टूडेंट ऑर्गेनाइजेशन से जुड़े जेपी तजाम ने बीबीसी से कहा कि ये 'नस्लीय हिंसा' का मामला है.

दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी पी करुणाकरन ने पत्रकारों से कहा, "इस मामले में दफा 302 के तहत एफआईआर लिख ली गई है. पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है."

उन्होंने इस मामले में ज्यादा जानकारी देने से मना कर दिया.

इस बीच अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के 20-25 युवा नेताओं ने लाजपत नगर पहुँचकर नारेबाज़ी की है. वे नीडो के हत्यारों को गिरफ़्तार करने की मांग कर रहे थे और दिल्ली पुलिस के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी कर रहे थे.

नीडो तनियन के मित्रों और परिजनों (जेपी ताजम, अरुणाचल स्टूडेंट्स यूनियन के नेता) ने घटनाक्रम का जो ब्यौरा दिया, वो कुछ यूँ हैं......

29 तारीख की दोपहर को नीडो तनियन अपने चार दोस्तों के साथ लाजपत नगर-एक मार्केट में गए थे.

यहाँ आने के बाद उन्होंने एक मिठाई की दुकान वाले से पता पूछा.

दुकान में किसी ने कथित तौर पर उनके बालों को लेकर मजाक किया जिस पर उन्होंने विरोध जताया. इसके बाद दोनों पक्षों के बीच बहसाबहसी बढ़ गई.

लड़के ने ग़ुस्से में दुकान का शीशा तोड़ दिया. इसके बाद दुकान में काम करने वाले और आसपास के लोग ने मिलकर चारों लड़कों की पिटाई कर दी.

मारपीट के बाद चारों लड़कों को पुलिस के हवाले कर दिया गया.

पुलिस चारों लड़कों को लाजपत नगर थाने ले कर गई. पुलिस ने इन लड़कों को थोड़ी देर रखने के बाद छोड़ दिया गया. लड़कों ने पुलिस से कहा कि वो खुद चले जाएंगे.

उन लड़कों के घर जाने का रास्ता उसी दुकान से होकर जाता था. जहाँ उनका विवाद हुआ था.

जब नीडो तनियन और उनके दोस्त घर के लिए लौट रहे थे तब दुकानदारों ने कथित तौर पर फिर उनके साथ मारपीट की. इस बार नीडो को गंभीर चोटें आईं. उनके दोस्त उन्हें उसी अवस्था में लेकर चले गए.

गुरुवार सुबह जब सारे दोस्त सोकर उठे तो नीडो तनियन नहीं उठे. जब करीब साढ़े बारह बजे उन्हें जगाया गया और वे नहीं उठे तो उनके दोस्तों ने पुलिस को फ़ोन किया.

पुलिस उसे अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ले कर गई. एम्स में उनकी मौत की पुष्टि हुई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार