अरुणाचल को कोई छीन नहीं सकता : मोदी

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट PTI

भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि दुनिया की कोई भी ताक़त अरुणाचल प्रदेश को भारत से नहीं छीन सकती है.

नरेंद्र मोदी शनिवार को अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट में भाजपा की एक रैली को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश का हर आदमी भारत की मजबूती से रक्षा करता है, इसलिए यहां के लोगों को चीन के दबाव में नहीं आना चाहिए.

चीन बराबर अरुणाचल प्रदेश पर अपनी दावेदारी जताता रहा है.

भाजपा नेता ने कहा कि अब दुनिया में कहीं भी विस्तारवादी राजनीति नहीं होती है, इसलिए चीन को भी अपनी विस्तारवादी मानसिकता को छोड़ना होगा.

विस्तारवादी मानसिकता

मोदी ने कहा कि 'भाजपा विकासवाद की पक्षधर है. भारत का भला न तो परिवारवाद से होगा और जातिवाद से. भारत का विकास भी विकासवाद से ही करना होगा.'

उन्होंने कहा कि 2014 में होने वाला लोकसभा का चुनाव विकास के मुद्दे पर ही लड़ा जाएगा.

नरेंद्र मोदी ने कहा कि अरुणाचल की हर समस्या का एक ही इलाज है, वह है विकास. उन्होंने कहा कि हर्बल, हार्टिकल्चर (बागबानी) और हैंडिक्राफ़्ट (हस्तशिल्प) के क्षेत्र में अरुणाचल प्रदेश के लिए अपार संभावनाएं हैं. इससे अरुणाचल को नई शक्ति दी जा सकती है.

अरुणाचल प्रदेश के बौद्ध मठों और हिमालय की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा कि इस राज्य में पर्यटन और पर्यावरण के क्षेत्र में अपार संभवानाएं हैं, इसके लिए केवल सपना देखने की ज़रूरत है. इससे अरुणाचल को पर्यावरण का वैश्विक राजधानी बनाया जा सकता है.

पूर्वोत्तर का विकास

इमेज कॉपीरइट PM Tiwari

उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने हर विभाग को कुल बजट का 10 फ़ीसद हिस्सा पूर्वोत्तर के राज्यों के लिए आबंटित करने को कहा था. भाजपा नेता ने कहा कि अगर वो प्रधानमंत्री बने तो वो पूर्वोत्तर के लिए वाजपेयी सरकार की नीतियों को ही आगे बढ़ाएंगे.

प्रदेश में सरकार चला रही कांग्रेस की आलोचना करते हुए उन्होंने 2012 में हुए मुख्यमंत्रियों के एक सम्मेलन का हवाला दिया. उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश के कांग्रेसी मुख्यमंत्री ने उस सम्मेलन में केंद्र की कांग्रेस सरकार पर ही कई आरोप लगाए थे.

उन्होंने लोगों से दिल्ली में एक ऐसी सरकार बनाने की अपील की जो कि अरुणाचल प्रदेश के लोगों की आवाज़ सुनें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार