राजद में 'टूट' से बिहार की राजनीति गरमाई

  • 24 फरवरी 2014
लालू प्रसाद यादव, आरजेडी Image copyright AFP

लोकसभा चुनाव की तारीख़ों का ऐलान अभी नहीं हुआ है, लेकिन लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल में टूट की ख़बर से बिहार की राजनीतिक सरगर्मी एकाएक तेज़ हो गई है.

राष्ट्रीय जनता दल के कुछ विधायकों ने दावा किया कि उन्होंने पार्टी से अलग गुट बना लिया है और विधानसभा में उन्हें अलग गुट की मान्यता भी मिल गई है.

बीबीसी से बातचीत में बाग़ी विधायकों में से एक जावेद इक़बाल अंसारी ने दावा किया कि उनके साथ 13 विधायक हैं. इनमें विधानसभा में पार्टी के उपनेता सम्राट चौधरी भी हैं.

लेकिन कुछ ही देर बाद विधानसभा में पार्टी विधायक दल के नेता अब्दुल बारी सिद्दीक़ी ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में आरोप लगाया कि जनता दल (यू) के इशारे पर पार्टी तोड़ने की कोशिश की जा रही है.

उस संवाददाता सम्मेलन में राजद के छह विधायक भी मौजूद थे, जिनके नाम 13 विधायकों की सूची में थे.

इन विधायकों ने दावा किया कि उनके हस्ताक्षर सही नहीं है और वे अब भी पार्टी के साथ हैं.

बिहार विधानसभा में राष्ट्रीय जनता दल के 22 सदस्य हैं.

पूरे घटनाक्रम पर राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट किया, "जो कहा जा रहा है वह सब सच नहीं हैं. यह एक असंवैधानिक षडयंत्र है. राष्ट्रीय जनता दल के वेग को इस तरह नहीं रोका जा सकता."

बीबीसी से बातचीत में बांका से राष्ट्रीय जनता दल के विधायक जावेद इक़बाल अंसारी ने कहा, "ये सही बात है कि हम 13 लोग पार्टी से अलग हो गए हैं अपना एक ग्रुप बना लिया है. हम धर्मनिरपेक्षता के मुद्दे पर नीतीश कुमार जी के साथ जाएंगे."

'सत्ता का दुरुपयोग'

जावेद अंसारी ने कहा कि वो लोकसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहते.

उन्होंने कहा, "लालू प्रसाद जी पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस की बी टीम बन गए थे. हमारी पार्टी का तो यहां सफाया हो गया."

इस बीच भाजपा नेता शाहनवाज़ हुसैन ने नीतीश सरकार पर जोड़-तोड़ का आरोप लगाया है.

उन्होंने कहा, "भाजपा जब अलग हो गई तो विधायकों की संख्या घट गई है इसलिए जेडीयू को अपने पर भरोसा कम है. सरकार जोड़तोड़ में लगी हुई है लेकिन बिहार की जनता उनके साथ नहीं है. हां, ये सही है कि सत्ता उनके पास है और सत्ता का दुरुपयोग कर रहे हैं."

बिहार विधानसभा में कुल 243 सदस्य हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार