किसका वोट?

इमेज कॉपीरइट AP

हाल ही में एक हिंदी टीवी चैनल ने चुनाव-पूर्व सर्वेक्षण करवाने वाली कंपनियों पर छिपे हुए कैमरों की मदद से किए गए स्टिंग ऑपरेशन किया जिसमें कई आरोप सामने आए हैं और चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों पर ही सवाल खड़े हो गए हैं.

जिन कंपनियों पर स्टिंग किया गया, उन्होंने आरोपों से इनकार किया है. कुछ समय पहले चुनाव आयोग ने सरकार से चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों पर चिंता जताते हुए उस पर रोक लगाने की बात कही थी. भारतीय जनता पार्टी ने ऐसे प्रस्ताव का यह कहकर विरोध किया था कि इससे विचारों की स्वतंत्रता पर असर पड़ेगा.

इन कंपनियों पर अब कार्रवाई की मांग की जा रही है. वर्ष 2004 में केंद्र की एनडीए सरकार ने जब चुनाव करवाने की सोची थी तब कई सर्वेक्षणों ने कहा था कि एनडीए दोबारा सत्ता में लौटेगी लेकिन सत्ता कांग्रेस के हाथ आई. सवाल ये कि इन चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों का आम चुनाव पर क्या सचमुच कोई असर पड़ता है?

क्या आप पर चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों का असर पड़ता है?

शनिवार, पहली मार्च, के इंडिया बोल में यही है हमारे कार्यक्रम का विषय.

कार्यक्रम में शामिल होने के लिए हमें इन मुफ़्त नंबरों पर फ़ोन करें – 1800-11-7000 और 1800-102-7001.

आप हमें अपने टेलीफ़ोन नंबर bbchindi.indiabol@gmail.com पर भी भेज सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)