मोदी और पासवान ने की एक-दूसरे की तारीफ़

  • 3 मार्च 2014
Image copyright PTI

भाजपा नेता नरेंद्र मोदी और एनडीए गठबंधन में वापस आए लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के नेता रामविलास पासवान सोमवार को बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में नरेंद्र मोदी के साथ मंच साझा किया. दोनों नेताओं ने रैली में एक-दूसर की तारीफ की.

नरेंद्र मोदी ने भी पासवान और कुछ अन्य नेताओं का यह कहकर स्वागत किया कि वो एनडीए के नाम पर नेशनल डेमॉक्रेटिक अलाएंस के साथ-साथ नेशनल डेवलपमेंट अलाएंस बना रहे हैं.

पासवान ने कहा कि इस देश में 'दो भारत' हैं, एक अमीर है दूसरा ग़रीब है.

उन्होंने मोदी की तारीफ करते हुए कहा, "नरेंद्र भाई का जन्म ग़रीब परिवार में हुआ है और उन्होंने ग़रीबी देखी है. देश में परिवर्तन की हवा चल रही है इसके लिए उनका आभार."

पासवान ने कहा कि मोदी के विकास से पता चलता है कि जाति किसी की राह का रोड़ा नहीं बनती.

विरोधियों को परेशानी

मोदी ने कहा कि उनके विरोधियों को इस बात से परेशानी हो रही है कि भाजपा को तो हम ब्राह्मण और बनियों की पार्टी कहते थे, लेकिन उसने तो पिछड़े वर्ग के व्यक्ति को प्रधानमंत्री का उम्मीदवार घोषित कर दिया.

कांग्रेस पार्टी और तीसरे मोर्चे पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा, "ऐसे चुनावी खिलाड़ी चुनाव का माहौल तो बिगाड़ सकते हैं लेकिन देश का भला नहीं कर सकते. वो चाहे कांग्रेस हो या फिर थर्ड फ्रंट."

तीसरे मोर्चे में शामिल पार्टियों पर उन्होंने आरोप लगाया कि ये वही लोग हैं जिन्होंने हमेशा कांग्रेस को बचाने का काम किया है.

रामविलास पासवान की तारीफ़ करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा, "सार्वजनिक जीवन में हिपोक्रेसी नहीं चलती है. पासवान एनडीए छोड़ने के बाद भी मिलने से कभी डरे नहीं, जबकि कई नेता बंद कमरे में तो बड़ी गर्मजोशी से मिलते हैं लेकिन बाहर तस्वीरें खिंच जाने के डर से ऐसा नहीं करते."

विकास की चर्चा

Image copyright PTI
Image caption राम विलास पासवान एक दशक बाद फिर भाजपा के साथ आ गए हैं

बिहार के विकास की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा कि यहां के लोगों ने विकास नहीं होने दिया.

उन्होंने कहा, "चंपारण इलाक़े में एक समय चीनी के कारखाने चलते थे लेकिन आज वो सब बंद पड़े हैं. इसके लिए कौन जिम्मेदार है. बिहार के केवल 23 प्रतिशत घरों में शौचालय हैं और सिर्फ 16 प्रतिशत घरों में बिजली है. इन सब बातों पर शर्म आती है."

दूसरे राज्यों की भाजपा सरकारों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पूरे हिन्दुस्तान में सिर्फ भाजपा सरकारें हैं जिन्होंने बीस सूत्रीय कार्यक्रमों में शत प्रतिशत प्रदर्शन किया है जबकि कांग्रेसी सरकारों का रिकॉर्ड इस मामले में बेहद ख़राब है.

उन्होंने कहा, "विरोधी दल सेक्युलरइज़्म के नाम से लोगों को डराते हैं और महंगाई, शिक्षा, कृषि जैसी बुनियादी बातों से लोगों का ध्यान बँटा देते हैं. विरोधी दलों का एक ही एजेंडा है- 'मोदी रोको'."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार