केजरीवाल की गाड़ी पर हमला, समर्थकों का प्रदर्शन

अरविंद केजरीवाल, अहमदाबाद इमेज कॉपीरइट AP

गुजरात में आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल के काफ़िले पर हमले की ख़बर है.

भुज में शाम करीब साढ़े सात बजे कच्छ के पास भचाउ में अरविंद केजरीवाल के काफ़िले पर हमला हुआ है.

इस हमले में उस गाड़ी के शीशे टूट गए हैं जिसमें केजरीवाल सवार थे. हमले में किसी के घायल होने की पुष्टि नहीं हुई है.

इससे पहले बुधवार दोपहर अरविंद केजरीवाल को गुजरात पहुंचने के कुछ घंटे बाद ही गुजरात पुलिस ने रोका और थाने ले गई हालांकि कुछ देर बाद ही उन्हें रिहा कर दिया गया.

अरविंद केजरीवाल ने एक ट्विटर संदेश में कहा है कि गुजरात पुलिस ने मुझे बिना किसी बात के रोके रखा और बाद में कई वजह बताते हुए मुझे जाने दिया.

लेकिन आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में इसके ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन किया है. आप के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया.

प्रदर्शन के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं और आप के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई और पुलिस को बीच-बचाव करना पड़ा. समर्थकों ने एक-दूसरे पर भी पथराव किया.

एक ओर आम आदमी पार्टी ने कहा है कि उसके कार्यकर्ता शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे, तो भाजपा ने आप पर हिंसा के लिए आरोप लगाया है.

आम आदमी पार्टी और बीजेपी की यह लड़ाई उत्तर प्रदेश की राजधानी तक भी पहुंच गई. लखनऊ में 'आप' कार्यकर्ता बीजेपी कार्यालय पर प्रदर्शन करने पहुंचे तो बीजेपी कार्यकर्ताओं से उनकी झड़प हो गई.

'गुजरात सरकार ने रोका'

अरविंद केजरीवाल को भुज जाते हुए अहमदाबाद से करीब 170 किलोमीटर दूर राधनपुर में पाटन पुलिस ने रोका था.

पाटन की एसपी परीक्षिता राठौड़ ने कहा, "हमें सूचना मिली थी कि अरविंद केजरीवाल अपने समर्थकों की 15-20 कारों के साथ हमारे ज़िले में घूम रहे हैं और आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं. जब हम उन्हें और उनके साथियों को थाने लाए तो हमें पता चला कि उनके पास सिर्फ़ दो-तीन कारें हैं और उन्होंने किसी क़ानून का उल्लंघन नहीं किया है, इसलिए हमने उन्हें जाने दिया."

जब उनसे ये पूछा गया कि क्या उन्हें उनके आला अधिकारियों से कोई कॉल आया है, तो उन्होंने कहा, “मुझे कोई कॉल नहीं आया. हमें सूचना थी कि उनके काफ़िले से ट्रैफ़िक रुक रहा है इसलिए हमने उन्हें बुलाया था. बाद में हमें पता चला कि अरविंद की कार के पीछे बाकी गाड़ियां मीडिया की हैं न कि उनकी पार्टी के सदस्यों की.”

आम आदमी पार्टी के नेताओं ने आरोप लगाया है कि अरविंद केजरीवाल को गुजरात सरकार के कहने पर रोका गया.

'विकास नहीं दिखा'

पुलिस थाने के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए केजरीवाल ने कहा, "मैंने सुना है कि गुजरात विकसित है इसलिए मैं विकास देखना चाहता था. लेकिन अब तक कोई विकास नहीं दिखा है. पुलिस को ऊपर से आदेश आए थे और मुझे गुजरात का दौरा करने से रोकने से पता चलता है कि नरेंद्र मोदी परेशान हैं."

वहीं आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने ट्विटर पर लिखा, "गुजरात में केजरीवाल की गिरफ़्तारी से पता चलता है कि मोदी उनसे और आप से डरे हुए हैं और इससे ये भी साबित होता है कि वो सोचते हैं कि गुजरात उनकी जागीर है."

इमेज कॉपीरइट AP

अरविंद केजरीवाल का दूसरे नेताओं के साथ बुधवार को कच्छ के भुज, मुंद्रा और अन्य इलाकों का दौरा करने का कार्यक्रम था. इसके बाद उनका गुजरात के अन्य हिस्सों में जाने का कार्यक्रम है और 8 मार्च को वह अहमदाबाद में एक रैली को संबोधित करेंगे.

भाजपा के नेता अरविंद केजरीवाल की गतिविधियों पर नज़र रख रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि गुजरात में अरविंद केजरीवाल के लिए समर्थन बढ़ रहा है.

आम आदमी पार्टी ने जूनागढ़ से अतुल सुखडा को उम्मीदवार बनाया है. सुखडा पूर्व सांसद गोविंद सुखडा के बेटे हैं और अन्ना आंदोलन के वक़्त से ही अरविंद केजरीवाल से जुड़े हुए हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफ़ा देने के बाद से ही अरविंद केजरीवाल का ध्यान आम चुनाव के लिए प्रचार पर है. केजरीवाल ने अपने ज़्यादातर भाषणों में नरेंद्र मोदी को निशाना बनाया है, इस तरह की अटकलें भी लग रही हैं कि वो नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार