वॉट्सऐप ने ढूंढ निकाला बरेली में खोया बच्चा

उत्तर प्रदेश के बरेली में पुलिस ने 11 वर्षीय एक लापता बच्चे को वॉट्सऐप की मदद से ढूंढ निकाला है.

पुलिस का दावा है कि परमिंदर सिंह के खोने की रिपोर्ट मिलने के बाद उसने जगह-जगह बच्चे की गुमशुदगी के पोस्टर्स लगाए. साथ ही बरेली में वॉट्सऐप पर मैसेज के तौर पर फ्लैश भी किए.

बरेली के अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक (अपराध) एसपी सिंह ने बीबीसी को बताया, “हमने प्रचार के कई माध्यमों का इस्तेमाल किया, पर्चे भी छपवाए. इन्ही पर्चों की डिजिटल प्रति हमने वॉट्सऐप पर भी चेन मैसेज के तौर पर भेजा.”

पुलिस का कहना है कि संयोगवश ये मैसेज वॉट्सऐप पर सही व्यक्ति को मिल गया.

एसपी सिंह कहते हैं, “हमारा मैसेज दानिश नाम के एक व्यक्ति के पास भी पहुंचा जो मुरादाबाद स्टेशन पर दून एक्सप्रेस ट्रेन में बैठे थे. संयोग से उनके सामने ही परमिंदर बैठे थे और दानिश ने उन्हें फ़ोटो से मिलाकर पहचान भी लिया.”

कैसे गुम हुआ बच्चा?

पुलिस के अनुसार दानिश ने तुरंत पुलिस को फ़ोन किया और बच्चे के मिलने की सूचना दी.

इमेज कॉपीरइट AFP

परमिंदर के पिता परमजीत सिंह की बरेली में मिठाई की दुकान है.

उन्होंने बीबीसी को बताया, “सुबह सात बजे के क़रीब परमिंदर साइकिल चलाने के लिए घर से निकला था लेकिन काफ़ी देर तक वापस नहीं आया. सारे रिश्तेदारों और दोस्तों से बातचीत के बाद भी उसका पता नहीं चल पाया. तब हम पुलिस के पास गए. पुलिस के प्रचार के बाद हमें बच्चा मिल गया.”

पुलिस का कहना है कि परमिंदर के घर से निकलने से लेकर ट्रेन में पहुंचने के बीच क्या हुआ इसकी तफ्तीश की जा रही है. परिवार के अनुसार बच्चा भी फिल्हाल सहमा हुआ है और साफ़-साफ़ जवाब नहीं दे पा रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार