मैं आंतकवादी नहीं, मोदी को मिलना चाहिए था: केजरीवाल

केजरीवाल गुजरात में इमेज कॉपीरइट AP

आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि वो आतंकवादी नहीं हैं और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को शिष्टाचार के नाते कम से कम उन्हें मिलने के लिए बुलाना चाहिए था.

समचार एजेंसी पीटीआई ने अरिवंद केजरीवाल के हवाले से कहा है, “मैं उनसे मिलना चाहता था लेकिन मुझे उनके घर से 5 किलोमीटर दूर ही रोक दिया गया.”

अरविंद केजरीवाल ने कहा है, “मैं एक आतंकवादी नहीं हूं. एक पूर्व मुख्यमंत्री होने के नाते कम से कम मुझे बुलाने का शिष्टाचार तो बरता जाना चाहिए था लेकिन इसकी बजाए मुझे रोक दिया गया. ये प्रजातंत्र नहीं है.”

'राजनीतिक स्टंट था'

दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री ने ये बयान राजस्थान की राजधानी जयपुर में दी. वो गुजरात से दिल्ली वापस आ रहे थे.

नरेंद्र मोदी सरकार में पूर्व मंत्री अमित शाह ने हालांकि एक टीवी चैनल पर कहा कि इस तरह की मुलाक़ातों के लिए पहले से समय तय किया जाता है औक अरविंद केजरीवाल का नरेंद्र मोदी से मिलने का प्रयास महज़ एक राजनीतिक स्टंट था.

अरविंद केजरीवाल पिछले दिनों गुजरात के दौरे पर थे जिसके बीच उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री से मिलने की बात कही और गांधीनगर में नरेंद्र मोदी के निवास स्थान की ओर शुक्रवार को कूच किया.

हालांकि गुजरात पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोक लिया और वो नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात नहीं कर सके.

हिंसक झड़पें

अरविंद केजरीवाल को चंद दिनों पहले कुछ पूछताछ के लिए गुजरात पुलिस ने रोका था. इसके बाद दिल्ली और लखनऊ में आम आदमी और भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच झड़पें भी हुई थीं.

इस मामले में आम आदमा पार्टी के दो नेताओं से दिल्ली पुलिस ने पूछताछ भी की है.

अरविंद केजरीवाल दावा कर रहे हैं कि गुजरात में विकास का जो दावा किया जा रहा है वो सच नहीं है और राज्य में भारी भ्रष्टाचार फैला है.

संबंधित समाचार