झारखंड: हथियारों का जखीरा बरामद, आठ संदिग्ध गिरफ़्तार

झारखंड में हथियारों के जखीरे की बरामदगी और कथित माओवादी की गिरफ़्तारी इमेज कॉपीरइट Gaurav

झारखंड के उग्रवाद-प्रभावित पलामू में पुलिस ने दो कथित माओवादियों की गिरफ्तारी के साथ अलग-अलग ठिकानों से 76 हथगोले समेत हथियारों का जखीरा बरामद किया है.

इनके अलावा राज्य के खूंटी और रांची ज़िले के चार इलाकों से पुलिस ने छह लोगों को हथियारों के साथ पकड़ा है. गिरफ्तार लोगों को कथित पीएलएफआई का सक्रिय सदस्य बताया है.

चुनाव में हिंसा रोकने के लिए चलाए जा रहे पुलिस के विशेष अभियान के तहत यह कार्रवाई की गई है.

झारखंड के 20 ज़िले उग्रवाद-प्रभावित इलाके में आते हैं और हाल ही में गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार और राज्य पुलिस को सतर्क किया है कि वे 13 ज़िलों पर चुनाव पूर्ण हिंसा रोकने के लिए विशेष नज़र रखें .

आम चुनाव की घोषणा के बाद से राज्य पुलिस का विशेष अभियान केंद्रीय बलों के साथ शुरु हो गया है.

गिरफ़्तारियां

झारखंड राज्य के पुलिस प्रवक्ता अनुराग गुप्ता ने बताया है कि पुलिस द्वारा चलाए गए विशेष अभियान में पलामू के पांकी के ताल जंगल से माओवादी अंकित यादव को गिरफ्तार करने के बाद उनकी निशानदेही पर हथियारों का जखीरा बरामद किया गया. उन्होंने बताया है कि ये कार्यवाई केंद्रीय रिजर्व पुलिस के साथ मिलकर की गई.

पुलिस के मुताबिक पांकी के डुमारखाड़ पहाड़ी से जमीन के अंदर गाड़ कर रखे गए छह प्लास्टिक के बड़े डिब्बों में रखे 76 हथगोले बरामद किए गए हैं. ये हथगोले देसी और शक्तिशाली हैं.

इमेज कॉपीरइट Gaurav
Image caption चुनाव में हिंसा रोकने के लिए चलाए जा रहे पुलिस के विशेष अभियान के तहत यह कार्रवाई की गई है.

इसके अलावा गिरफ्तार किए गए कथित माओवादियों के पास से तीन कारतूस समेत एक लोडेड स्वचालित पिस्टल बरामद किया गया है. साथ ही उनके केसरगढ़ स्थित घर से 70 डेटोनेटर, 70 सेफ्टी फ्यूज, बम बांधने की सुतली, पलीता समेत बड़ी मात्रा में विस्फोटक सामग्री, हथियार बनाने के औज़ार भी पुलिस को मिले हैं.

अंकित यादव से पूछताछ के बाद पुलिस ने पांकी के जोलहाबिगहा द्वारिका गांव के शाहिद अंसारी के घर से 7.62 एमएम के 75 जिंदा कारतूस बरामद किया है. शाहिद अंसारी को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

पलामू के एसपी वाइआर रमेश पूरे मामले पर नजर रखे हुए हैं. पुलिस अन्य संदिग्ध ठिकानों का भी पता लगा रही है. इसके लिए विशेष टीम गठित की गई है.

पुलिस प्रववक्ता के मुताबिक अन्य कार्रवाई के तहत खूंटी जिले के तजना नदी के पास से कथित पीएलएफआई के सबज़ोनल कमांडर जीतेंद्र पातर मुंडा को देसी पिस्तौल, कारतूस, पिट्ठू, चार मोबाइल फोन के साथ पकड़ा गया है.

इमेज कॉपीरइट Gaurav
Image caption झारखंड के विभिन्न इलाकों से पुलिस ने आठ संदिग्धों को गिरफ़्तार किया है और हथियारों का जखीरा बरामद किया है.

खूंटी के ही जिलिंगबुरू जंगल से पुलिस ने संदिग्ध ललित साहु को 36 कारतूस और लैपटॉप के साथ पकड़ा है.

इनके अलावा रांची ज़िले के सोनाहातू व अनगड़ा क्षेत्र से हथियारबंद दस्ता के चार लोगों को एक कार्बाइन, एक पिस्टल, एक विस्फोटक आइआइडी, 9 ज़िंदा गोली के साथ गिरफ्तार किया है.

संकेत

राज्य पुलिस के मुताबिक उग्रवाद प्रभावित इलाके और संवेदनशील और अति संवेदनशील इलाकों में उनके विशेष अभियान जारी है और कई जगहों पर पुलिस अधिकारियों की विशेष टीम बनाई गई है.

कुछ दिन पहले चाईबासा के सरांडाह से पुलिस ने हथियारों की एक फ़ैक्ट्री पकड़ी थी और 15 दिन पहले भी पुलिस ने बोकारो के झुमड़ा पहाड़ी में भी हथियारों की एक फ़ैक्ट्री पकड़ी गई थी.

हथियारों के ज़खीरे की बरामदगी और हथियारों की फ़ैक्ट्रियों के पकड़े जाने से ये संकेत मिल रहे हैं कि अब कथित माओवादी या हथियारबंद दस्ते जंगलों और पहाड़ों में हथियार बनाने के काम में जुटे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार