'एक साल में हो जनप्रतिनिधियों का फ़ैसला'

भारत का सुप्रीम कोर्ट इमेज कॉपीरइट Reuters

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को फ़ैसला दिया कि मौजूदा सांसदों और विधायकों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामलों की सुनवाई में निचली अदालतों को आरोप तय होने के एक साल के भीतर फ़ैसला दे देना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश में एक साल की समयसीमा तय किए जाने के बाद अब जनप्रतिनिधियों से जुड़े मामलों में तेज़ी से फ़ैसले आ सकेंगे.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ न्यायमूर्ति आरएम लोढ़ा की अगुवाई वाली पीठ ने यह फ़ैसला दिया है.

पीठ ने कहा कि अगर निचली अदालत ऐसे मामलों में एक साल के भीतर फ़ैसला नहीं सुना पाती है, तो उसे इसके लिए संबंधित हाईकोर्ट को सफ़ाई देनी होगी.

अदालत ने कहा है कि अगर इस सफ़ाई से हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश संतुष्ट हो जाते हैं, तो फ़ैसला सुनाने की अवधि बढ़ाई भी जा सकती है.

रोज़ाना सुनवाई

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के एक फ़ैसले के आधार पर राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू प्रसाद यादव की संसद सदस्यता रद्द कर दी गई थी.

अपने ताज़ा फ़ैसले में सर्वोच्च अदालत ने कहा कि इसके लिए जनप्रतिनिधियों से जुड़े मामलों में रोज़ाना सुनवाई करनी चाहिए.

अदालत ने एक जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया.

आमतौर पर देखा जाता है कि भारत में क़ानूनी मामले कई साल तक लटके रहते हैं.

यह जनहित याचिका 'पब्लिक इंट्रेस्ट फ़ाउंडेशन' नाम के एक ग़ैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) ने दायर की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार