शिवसेना ने कहा भाजपा से कोई मतभेद नहीं

उद्धव ठाकरे इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption शिवसेना ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की तारीफ की है

शिवसेना ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ मतभेद की ख़बरों का खंडन किया है.

पार्टी के मुख पत्र 'सामना' में कहा गया है कि भाजपा के साथ शिवसेना का गठबंधन पहले की ही तरह मज़बूत है.

पार्टी ने भाजपा के प्रधानमंत्री पद के दावेदार और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ़ करते हुए कहा है कि आज उन्हें पूरे देश में समर्थन मिल रहा है.

मुखपत्र में कहा गया है, "यहां तक कि कल तक जो लोग उनकी आलोचना करते थे, वे भी आज मोदी-मोदी का मंत्र जप रहे हैं. समय बदलने का इससे बड़ा कोई सबूत नहीं है."

चुनाव पर नज़र

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के चचेरे भाई राज ठाकरे को निशाना बनाते हुए पार्टी ने कहा है कि 'कुछ लोगों की गठबंधन तोड़ने और हिंदू वोटों को बांटने की कोशिशें बेकार हो गई हैं. कुछ समय के लिए मतभेद तो रहता है. लेकिन गठबंधन बचा हुआ है'.

भाजपा से मतभेद की ख़बरों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए शिवसेना नेता राहुल नावरेकर ने कहा, ''हम चुनाव पर ध्यान लगा रहे हैं और इसके पहले क्या हुआ यह अतीत की बात है.''

इस बीच ऐसी ख़बरें हैं कि उद्धव ठाकरे मंगलवार दोपहर पार्टी पदाधिकारियों और मुंबई से शिवसेना के उम्मीदवारों की एक बैठक लें. इसमें वह गठबंधन में दरार संबंधी ख़बरों पर चर्चा कर सकते हैं.

भाजपा के महाराष्ट्र प्रभारी राजीव प्रताप रूड़ी के भी मंगलवार को उद्धव ठाकरे से मिलने की संभावना है.

भाजपा नेता नितिन गडकरी और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) के प्रमुख राज ठाकरे के बीच पिछले हफ़्ते हुई बैठक के बाद भाजपा-शिवसेना गठबंधन में तनाव की ख़बरें मीडिया में आई थीं.

गठबंधन पर असर

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भाजपा नेता नितिन गडकरी ने एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे से मुलाक़ात की थी

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना ने कहा था कि एमएनएस के साथ भाजपा की किसी भी तरह की बातचीत से भाजपा-शिवसेना का गठबंधन प्रभावित हो सकता है.

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था, ''अगर हमारे सहयोगी राकांपा या कांग्रेस की तारीफ़ करेंगे तो इससे हमारे हित प्रभावित होंगे. अगर भाजपा नेता राज या राकांपा से बात करते हैं तो यह हमारे गठबंधन को प्रभावित करेगा.''

गडकरी से मिलने के बाद राज ठाकरे ने अपने उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी थी और कहा था कि उनकी पार्टी प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी का समर्थन करेगी.

भाजपा ने उनका आभार जताते हुए कहा था कि महाराष्ट्र में उनका शिवसेना के साथ मज़बूत गठबंधन है. गडकरी ने उनसे एनडीए के अन्य उम्मीदवारों की मदद करने की अपील की थी.

उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों के बाद महाराष्ट्र में सबसे अधिक 48 सीटें हैं. वहां पर सत्तारूढ़ कांग्रेस का राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के साथ और भाजपा का शिवसेना के साथ गठबंधन है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार