कांग्रेस 206 से ज़्यादा सीटें जीतेगीः राहुल गांधी

  • 16 मार्च 2014
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Reuters

कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने उत्साहित अंदाज में कांग्रेस पार्टी के लोकसभा चुनाव में "उपेक्षित" या "कठिन" काम का सामना करना जैसे बातों को खारिज कर दिया .

उन्होंने कांग्रेस नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन-3 के बनने का दावा किया.

सीटों की संख्या के बारे में ख़तरे से इनकार करते हुए राहुल गांधी ने एक विशेष साक्षात्कार में समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा, " कांग्रेस एक चुनौतीपूर्ण चुनाव लड़ रही है और हम चुनाव जीतेंगे."

उन्होंने कहा, " मैं एक भविष्यवक्ता नहीं हूँ, लेकिन हम अच्छा करेंगे ".

जनमत सर्वेक्षणों को खारिज करते हुए उन्होंने इसे एक मज़ाक बताया. राहुल गांधी ने कहा पार्टी 2009 के चुनाव की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करेगी जब उसने 206 सीटें जीती थीं.

कांग्रेस के चुनाव प्रचार अभियान की कमान स्वीकार करते हुए कहा कि सत्ता में 10 साल रहने के बाद "हमारे खिलाफ निश्चित तौर पर सत्ता विरोधी थोड़ी लहर है ".

राहुल पार्टी के वरिष्ठ नेता और वित्त मंत्री पी चिदंबरम के उस नज़रिए से सहमत नहीं है जिसमें पार्टी को उपेक्षित और एक कठिन काम का सामना करने वाला बताया गया है.

बेहतर संवाद

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption राहुल गांधी ने कांग्रेस नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन-3 के बनने का दावा किया.

उन्होंने 2004 और 2009 के चुनावों से पहले की गई भविष्यवाणियों की भी याद दिलाई जब कांग्रेस के हारने और पिटे होने की बात की जा रही थी.

सरकार की विफलता और पार्टी के लोगों के साथ संवाद स्थापित करने के सवाल के जवाब में उन्होंने माना, " मै मानता हूं निश्चित रूप से हम अपनी उपलब्धियों के संदेश पहुंचाने में अधिक आक्रामक हो सकते थे, जैसा कि मैंने कहा, हमने परिवर्तनकारी काम किया है हम हमेशा संवाद में बेहतर हो सकते थे."

कांग्रेस के सहयोगी दलों को खोने की धारणा बेकार है, पार्टी उपाध्यक्ष ने कहा कि राकांपा , राजद , झामुमो , रालोद और नेशनल कांफ्रेंस के साथ गठबंधन हुआ है, लेकिन द्रमुक और तृणमूल कांग्रेस को सहयोगी के रूप में खो दिया है.

कांग्रेस द्रमुक और तृणमूल कांग्रेस के साथ फिर से " गठबंधन " हो सकता है, इस सवाल पर राहुल गांधी ने जवाब दिया, हम हमेशा हमारी विचारधारा और राजनीतिक दर्शन के साथ सहमत होने वाले और संकीर्ण राजनीतिक लाभ के लिए भारत को विभाजित करने वाले सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध रहने वालों के साथ काम करने को तैयार हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार