झारखंड: विधायक एवं अन्य पर युवक की हत्या का मामला दर्ज

बोकारो में युवक की हत्या का विरोध इमेज कॉपीरइट Pramod Sinha BBC

झारखंड के बोकारो ज़िले में शुक्रवार को एक विधायक और उसके भाई समेत नौ लोगों पर एक युवक की पीट-पीट कर हत्या करने का मामला दर्ज कराया गया है.

झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के विधायक जगरनाथ महतो, उनके भाई बैजनाथ महतो और अन्य लोगों पर आरोप है कि इन लोगों ने जनता दरबार लगाकर गुरुवार को इस मृतक की पिटाई की थी. प्रेम-प्रसंग से जुड़े इस मामले में मृतक युवक संतोष पांडेय पर आरोप था कि वो एक युवती को लेकर चेन्नई चले गए थे.

झामुमो विधायक ने अपने ऊपर लगे आरोप को निराधार बताते हुए कहा है कि घटना के वक़्त वह गांव में नहीं थे. उन्होंने कहा कि पुलिस इस मामले की जाँ करे और अगर उनके भाई बैजनाथ महतो दोषी हैं तो उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई हो.

बोकारो के एसपी जितेंद्र कुमार ने बताया है कि इस मामले में दो लोगों गणेश भारती और नेमी पुरी को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

गंभीर रूप से घायल संतोष पांडेय को गुरुवार को डीवीसी अस्पताल चंद्रपुरा में भर्ती कराया गया था, जहां शुक्रवार को उनकी मृत्यु हो गई.

लोगों का विरोध

इमेज कॉपीरइट Pramod Singha BBC

मृतक के भाई अनंत लाल पांडेय ने बीबीसी से बातचीत में आरोप लगाया है कि विधायक के कहने पर उनके भाई ने जनता दरबार लगाकर माओवादियों की शैली में उऩके भाई को लाठी-डंडे से पीटा. मृतक का घर विधायक के घर से कुछ ही दूरी पर स्थित है.

युवक की मौत होने के बाद घटना के विरोध में गांव के लोग सड़कों पर उतर आए. गुस्साये लोगों ने कई घंटे तक पुलिस थाने और अस्पताल का घेराव भी किया. प्रदर्शनकारी विधायक और उनके भाई की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े हैं.

संतोष पांडेय की पिटाई करने में युवती के कई परिजन भी शामिल थे.

जांच के लिए बेरमो और बोकारो के पुलिस उपाधीक्षक के नेतृत्व में पांच पुलिस अधिकारियो की टीम गठित कर चंद्रपुरा भेजा गया है.

चंद्रपुरा थाना के प्रभारी बनारसी राम ने बताया कि स्थानीय लोग शव को पोस्टमार्टम के लिए उठाने नहीं दे रहे थे.

लिहाजा बीस घंटे से ज़्यादा समय तक युवक का शव अस्पताल में ही पड़ा रहा.

परिजनों की शिकायत

इमेज कॉपीरइट Pramod Sinha BBC

यह घटना झारखंड की राजधानी रांची से करीब डेढ़ सौ किलोमीटर दूर बोकारो ज़िले के अलारगो गांव की है.

पुलिस के मुताबिक प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है कि संतोष पांडेय पड़ोस के एक गांव की एक युवती को लेकर चेन्नई चले गए थे.

युवती के परिजनों ने बोकारो के नवाडीह थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी.

दो दिन पहले ही युवती के कुछ परिजन और विधायक के भाई बैजनाथ महतो लड़के-लड़की को चेन्नई से लेकर गांव आए थे.

मृतक के भाई का आरोप है कि चेन्नई से उनके भाई के आने पर जनता दरबार लगाकर बेरहमी से उनकी पिटाई की गई.

गंभीर हालत में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ा.

जगरनाथ महतो गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र से सांसद का चुनाव लड़ रहे हैं. उन्होंने शुक्रवार को नामांकन पत्र भरा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार