आंध्र प्रदेश: प्रेम विवाह करने वाली युवती की मिली लाश

ऑनर कीलिंग
Image caption आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में माता पिता ने अपने आईटी पेशेवर बेटी की हत्या की.

आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में माता-पिता की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ प्रेम-विवाह करने वाली एक आईटी पेशेवर महिला की लाश मिली है. महिला की मौत गला घोंटने से हुई है. पुलिस का कहना है कि यह मामला आंध्र प्रदेश में होने वाला अपने तरह का 'ऑनर किलिंग' का मामला हो सकता है.

गुंटूर के पुलिस अधीक्षकगोपीनाथ जट्टी ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि 26 वर्षीय महिला को उसके माता-पिता ने गला घोंट कर हत्या कर दी.

गोपीनाथ जट्टी ने बीबीसी हिंदी को बताया, ''लड़की के माता-पिता ने अपना अपराध कबूल कर लिया है. उन्होंने अपनी बेटी को उसी की चुनरी से गला घोंट कर मार डाला.’’

अधिकारी ने आगे जानकारी दी है कि महिला ने 21 फरवरी को अमरीका में काम करने वाले अपने आईटी पेशेवर साथी से हैदराबाद में एक निजी समारोह में शादी कर ली थी.

शादी को लेकर मतभेद

पुलिस अधीक्षक गोपीनाथ जट्टी ने जानकारी दी, ''लड़की के माता-पिता दो-तीन साल से कोशिश कर रहे थे कि लड़की उनकी पसंद के लड़के से शादी कर ले. दबाव जब बढ़ने लगा तो लड़की ने माता-पिता को बताया कि वह एक दूसरे लड़के से प्रेम करती है और उसी से शादी करना चाहती है. उसने उन्हें राजी करने की पूरी कोशिश की, मगर नाकामयाब रही. ’’

पुलिस अधिकारी ने बताया, ''माता-पिता हैदराबाद पहुंचे और नवविवाहित जोड़े को ये वादा करके गुंटूर वापस ले आए कि अपने रीति-रिवाजों के मुताबिक शादी करवाएंगे. विवाहित जोड़ा और उनके दोस्त होटल में ठहरे. वे लोग बेटी को घर ले आए और वहां उसे मार डाला.’’

मृत महिला का परिवार कुलीन समुदाय से आता है जिनकी उस इलाक़े में अच्छी-खासी धाक है. जबकि माना जा रहा है कि लड़का पिछड़े तबके से ताल्लुक रखता है.

विलक्षण मामला

जट्टी बताते हैं, ''इस इलाके में पहले कभी ऑनर किलिंग की घटना सुनने में नहीं आई थी. यह प्रवृत्ति आमतौर पर उत्तर भारतीय राज्यों में पाई जाती है. यह एक दुर्लभ मामला है.’’

महिला की हत्या की बात तब खुली जब वर-वधू के दोस्तों को शंका हुई और वे महिला के घर पहुंचे.

जट्टी बताते हैं, ''लड़की के माता-पिता को हिरासत में ले लिया गया है. उन्होंने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है.’’

महिला के माता-पिता की ओर से अभी तक कोई सार्वजनिक बयान सामने नहीं आया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार