नरेंद्र मोदी के निशाने पर रॉबर्ट वाड्रा

  • 3 अप्रैल 2014
नरेंद्र मोदी और वीके सिंह Image copyright AFP

भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कांग्रेस पर धर्मनिरपेक्षता को चुनावी नारा बनाने और विभाजन की राजनीति करने का आरोप लगाया.

उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ियाबाद में एक रैली को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस के लिए धर्मनिरपेक्षता का मतलब एक धर्म है और हमारे लिए धर्मनिरपेक्षता का मतलब देश है.

उन्होंने कहा, "सोनिया ने देश को गुमराह करने और बांटने की भूल कर रही है. जनता ऐसी राजनीति को कभी माफ नहीं करेगी."

मोदी का यह बयान सोनिया गांधी के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने अल्पसंख्यकों से अपील की थी कि 'धर्मनिरपेक्ष वोटों' का बंटवारा नहीं होना चाहिए.

नरेन्द्र मोदी ने विवादास्पद भूमि सौदे पर गुरुवार को राबर्ट वाड्रा को भी अपने निशाने पर लिया.

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में हुई रैली में राहुल गांधी को आड़े हाथ लेते हुए मोदी ने कहा, "शहजादे इस बारे में बात कर रहे हैं कि देश के सभी लोगों को इसके संसाधनों की रखवाली के लिए चौकीदार के रूप में काम करने की ज़रूरत है. क्या उनके (राहुल के) बहनोई भी चौकीदारी करेंगे."

'सोनिया का जवाब'

मोदी ने बाद में गुड़गांव में एक रैली में कहा, "शहजादा, से लोग जानना चाहते हैं आपके घर में क्या चल रहा है. लोग जानना चाहते हैं कि बाजीगर कौन है जिसने तीन महीने में 50 करोड़ रुपए अर्जित किए हैं."

उन्होंने पूछा कि राहुल गांधी से उनका क्या रिश्ता है, जिस पर भीड़ में से कुछ लोगों ने नारा लगाया- जीजा जी.

Image copyright Reuters

कांग्रेस पार्टी पहले ही कई बार कह चुकी है कि रॉबर्ट वाड्रा ने कथित रूप से विवादास्पद भूमि सौदे में कोई ग़लत काम नहीं किया है.

दूसरी ओर बिहार के सासाराम में एक रैली को संबोधित करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि भाजपा के नेता बड़ी-बड़ी बातें, बड़े-बड़े वादे करके लोगों की आंखों में धूल झोंकना चाहते हैं, जैसे उनके पहले किसी ने कुछ किया ही नहीं.

उन्होंने कहा कि आज़ादी के साथ ही कांग्रेस ने बिहार, गुजरात जैसे सभी राज्यों के विकास की ठोस बुनियाद रखी. शांति और सद्भाव के बिना कोई देश तरक्की नहीं कर सकता.

'मोदी का पोस्टर फाड़ने' के मामले में मिस्त्री को ज़मानत

सोनिया ने कहा शांति और सद्भाव की बात वह (नरेंद्र मोदी) समझ नहीं सकते. उनकी निगाह सिर्फ कुर्सी पर है. सोनिया गांधी ने कहा कि वह (मोदी) तो यही चाहते हैं हम जो बोलें, सब वही बोलें.

सोनिया ने सासाराम में नरेंद्र मोदी के दुर्गावती जलाशय परियोजना पर उठाए गए सवाल का भी जवाब दिया. उन्होंने कहा कि बाबू जगजीवन राम ने करमचट बांध का निर्माण शुरू कराया. बंद पड़ी इस परियोजना को मीरा कुमार ने चालू कराया. जल्द ही इस बांध से पानी निकलेगा और किसानों के खेत तथा उनके जीवन लहलहाएंगे.

सोनिया ने नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा, "उनसे भी सावधान करूंगी जो कल तक भाजपा के साथ थे. अब धर्मनिरपेक्षता के मसीहा बन गए हैं. अपनी नाकामी छुपाने के लिए हम पर आरोप लगाते हैं. वह आपके नहीं, कुर्सी के साथी हैं."

'कांग्रेस का ख़ात्मा'

Image copyright Reuters

उधर केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश का कहना है कि कांग्रेस धारणा के स्तर पर लड़ाई हार गई है क्योंकि शीर्ष नेतृत्व ने लोगों से संवाद क़ायम नहीं किया. उन्होंने स्वीकार किया कि सत्ता में 10 साल रहने के बाद कांग्रेस सत्ता विरोधी लहर का सामना कर रही है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार रमेश ने कहा कि यह चुनावी मुहिम चुनौतीपूर्ण है लेकिन पार्टी तीन अंकों की सम्मानजनक संख्या में मत हासिल करेगी.

गुजरात में राजनीति का मछली बाज़ार

उन्होंने कहा, 'अतिसक्रिय न्यायपालिका, जैसे बेहद सक्रिय संवैधानिक अधिकारी, आक्रामक मीडिया और ग़ैर-जिम्मेदार नागरिक समाज मिल गए हैं. हमारी प्रतिक्रिया धीमी थी, हमने अपनी बात प्रभावशाली तरीके से नहीं पहुंचाई. हमारे शीर्ष नेतृत्व ने संवाद कायम नहीं किया. राजनीति संवाद पर आधारित है. इसलिए हम धारणा के स्तर पर लड़ाई हार गए और हमने उन्हें पर्याप्त रूप से गंभीरता से नहीं लिया.'

Image copyright PTI
Image caption उद्धव ठाकरे का कहना है कि सोनिया गांधी का इमाम बुखारी से मिलना कांग्रेस का झुकना है.

'आप' का घोषणापत्र

राहुल, मोदी, केजरीवाल होंगे आमने-सामने?

इस बीच अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को आम आदमी पार्टी का घोषणापत्र जारी किया.

इसमें पुलिस सुधार पर ख़ासा ज़ोर है. उन्होंने कहा कि एफआईआर न दर्ज करना एक आपराधिक कृत्य बनाया जाएगा.

केजरीवाल ने कहा कि न्याय व्यवस्था को सुधारना होगा क्योंकि आज न्याय व्यवस्था चरमरा गई है,

एक केस को सुलझाने में सालों लग जाते हैं. उन्होंने कहा कि अगले पांच साल में अदालतों की संख्या दुगुनी की जाएगी और जजों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार