शक्ति मिल गैंगरेप: तीन को फांसी, एक को उम्र क़ैद

  • 4 अप्रैल 2014
शक्ति मिल गैंगरेप का अभियुक्त Image copyright Ashwin Aghor

मुंबई की सत्र अदालत ने शुक्रवार को शक्ति मिल में एक महिला पत्रकार के साथ हुए सामूहिक बलात्कार मामले के चार दोषियों में तीन को फांसी और एक को उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई है. फांसी पाने वाले दोषियों को धारा 376(ई) के तहत फांसी की सजा दी गई है.

भारतीय दंड विधान की धारा 376 (ई) के तहत फांसी की सजा सुनाए जाने का यह पहला मामला है.

शक्ति मिल गैंगरेपः तीन अभियुक्त दोषी क़रार

फांसी पाने वाले तीनों दोषियों को शक्ति मिल में एक महिला टेलिफ़ोन ऑपरेटर के साथ बलात्कार मामले में पहले ही उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई जा चुकी थी.

गुरुवार को अदालत ने इन तीनों अभियुक्तों को धारा 376 (ई) के तहत 'आदतन अपराधी' मानते हुए दोषी क़रार दिया था.

अदालत ने विजय जाधव (19 वर्ष), मोहम्मद क़ासिम शेख (21 वर्ष) और मोहम्मद अंसारी (28 वर्ष) को दोनों मामलों में दोषी क़रार दिया था. इन तीनों को दोबारा बलात्कार का दोषी होने के कारण फांसी की सज़ा दी गई. इस मामले के चौथे दोषी सिराज रहमान खान को टेलीफ़ोन ऑपरेटर के मामले में शामिल न होने के कारण उम्रक़ैद की सज़ा दी गई.

मुंबई की शक्ति मिल के पास 22 अगस्त 2013 को पाँच लोगों ने 22 वर्षीय महिला पत्रकार का बलात्कार किया था. महिला अपने एक पुरुष सहकर्मी के साथ एक असाइनमेंट पर गई थी.

नाबालिग अभियुक्त

Image copyright AFP

पत्रकार के साथ सामूहिक बलात्कार मामले में कुल पांच अभियुक्त थे. पांचवे अभियुक्त के नाबालिग होने के कारण उस पर अलग से मुक़दमा चल रहा है.

शक्ति मिल में ही जुलाई, 2013 में हुए 18 साल की टेलिफ़ोन ऑपरेटर के साथ बलात्कार के मामले में स्थानीय अदालत ने चार दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई थी.

इस मामले के आरोपी कासीम शेख उर्फ कासीम बंगाली, विजय जाधव और सलीम अंसारी को गुरुवार को मुंबई सत्र न्यायालय की प्रधान न्यायाधीश शालीनी फनसालकर जोशी ने धारा 376 (ई) के तहत दोषी क़रार दिया था.

इस पुरे मामले की तफ्तीश और सुनवाई मात्र सात महीनों में पूरी कर, आरोपियों को सजा सुनायी गई.

शक्ति मिल बलात्कार अभियुक्त के पुराने जुर्म

शुक्रवार सुबह सुनवाई शुरु होते ही, अभियोग पक्ष के विशेष सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने अदालत से कहा कि तीनों आरोपी टेलिफ़ोन आपरेटर महिला के साथ सामूहिक बलात्कार मामले में पहले भी दोषी क़रार दिए गए हैं.

वहीं बचाव पक्ष के वकीलों की दलील देने की अर्जी अदालत ने ख़ारिज कर दी. बचाव पक्ष का कहना था की इस अपराध के वक़्त विजय जाधव नाबालिग था. बचाव पक्ष ने धारा 376 (ई) के तहत दायर गुनाहों की वैधता पर किसी वरिष्ठ वकील से चर्चा करने की अनुमती मांगी और सुनवाई सोमवार तक टालने की मांग की. लेकिन अदालत ने यह मांग भी ख़ारिज कर दी.

आदतन अपराधी

Image copyright Ashwin Aghor

इन तीनों आरोपियों को टेलीफोन आपरेटर महिला के सामूहिक बलात्कार के जुर्म में दोषी होने का आधार लेते हुए सरकारी वकील ने अदालत से इन्हें सख़्त से सख़्त सजा देने की माँग की थी

निकम ने कहा, "महिलाओं पर दुष्कर्म का यह अपने तरह का पहला ऐसा मामला है जिसमें इतने कम समय में अभियुक्तों को सजा मिली है. इन तीन आरोपियों को आदतन मुजरिम मानते हुए फांसी की सजा सुनायी गई है."

शक्ति मिल गैंगरेप: चार दोषियों को उम्रकैद

उन्होंने कहा, "मैं इसका स्वागत करता हूं. इस निर्णय से इस तरह के गुनहगारों के लिये एक कड़ा संदेश जाएगा.”

शुक्रवार को सुनवाई की शुरुआत में ही अभियुक्तों के लिये फांसी के सजा की मांग करते हुए इसके लिये 10 कारण दिए गए. इन कारणों में इन अभियुक्तों की अपराधिक पृष्टभूमि, अपराध की बर्बरता और उनका यह स्वीकार करना कि उन्होंने शक्ति मिल में कई बार ऐसा गुनाह किया है लेकिन किसी ने उन्हें पकड़ा नहीं.

इस दौरान बचाव पक्ष के वकीलों ने बंबई उच्च न्यायालय जाकर इसका विरोध किया था लेकिन 27 मार्च को उच्च न्यायालय ने वह अर्जी खारीज कर दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार