यूक्रेन: अब दोनेत्स्क भी अलग होने की राह पर!

यूक्रेन में अशांति इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यूक्रेन के पूर्वी शहर दोनेत्स्क में रूस समर्थक प्रदर्शनकारियों ने सरकारी इमारत पर नियंत्रण कर लिया है और ऐसी भी खबरें हैं कि उन्होंने ' संप्रभु पीपल्स रिपब्लिक' की घोषणा कर दी है.

विद्रोहियों ने यूक्रेन से अलग होने के लिए 11 मई तक जनमत संग्रह कराने को कहा है.

वहीं यूक्रेन की सरकार तीन पूर्वी शहरों दोनेत्स्क, लुहांस्क और खारकीव में सुरक्षा बलों को भेज रही है. इन शहरों में रूस समर्थक समूहों ने सरकारी इमारतों पर नियंत्रण कर लिया है.

यूक्रेन के अंतरिम राष्ट्रपति ओलेक्सांद्र तुर्चीनोव ने ताज़ा घटनाक्रम को 'यूक्रेन को विखंडित करने की रूसी कोशिश' का नाम दिया है.

कुछ दिनों पहले ही यूक्रेन का स्वायत्त क्षेत्र क्राईमिया एक जनमत संग्रह के बाद रूस में शामिल हो गया था. हालांकि यूक्रेन और पश्चिमी देशों ने इस क़दम का विरोध किया था.

'रूस से साथ युद्ध'

राष्ट्रीय टीवी पर अपने संबोधन में तुर्चीनोव ने कहा कि यूक्रेन को अस्थिर करने, सरकार को हटाने और निर्धारित चुनावों को बाधित करने के लिए ये 'रूसी अभियान की दूसरी लहर' है.

वही रूस ने कहा है कि यूक्रेन अपनी सभी परेशानियों के लिए उसे ही ज़िम्मेदार ठहरा रहा है.

लेकिन अमरीकी विदेश मंत्री जॉन कैरी ने कहा कि ये घटनाक्रम सहज नहीं दिखाई पड़ता है.

उन्होंने रूसी विदेश मंत्री सेरगेई लावरोव से टेलीफ़ोन पर वार्ता में कहा कि रूस को अलगावादियों, तोड़फोड़ करने वालों और उकसाने वालों की कार्रवाइयों को ख़ारिज करना चाहिए.

अमरीकी विदेश मंत्रायल के अनुसार दोनों विदेश मंत्रियों ने 10 दिनों के भीतर यूक्रेन, रूस, अमरीका और यूरोपीय संघ के बीच सीधी बातचीत कराने को लेकर भी बात की.

बढ़ते तनाव के बीच यूक्रेन के विदेश मंत्री एंद्रीय देशचितस्या ने रूस की एक समाचार एजेंसी को बताया कि रूस ने अगर पूर्वी यूक्रेन में सैनिक भेजे तो उसके साथ युद्ध की स्थिति पैदा हो जाएगी.

क्राईमिया से भिन्न हालात

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कई सरकारी इमारतों पर प्रदर्शनकारियों ने नियंत्रण किया

रूस ने यूक्रेन से लगने वाली अपनी सीमा पर हज़ारों सैनिकों को तैनात कर रखा है. रूस का कहना है कि हमला करने का उसका कोई इरादा नहीं है, लेकिन वो रूसी मूल के लोगों के अधिकारों की सुरक्षा का अधिकार संरक्षित रखेगा.

दोनेत्सक एक औद्योगिक शहर है जिसकी आबादी दस लाख के आसपास है. मॉस्को में बीबीसी संवाददाता डैनियल सैंडफोर्ड का कहना है कि दोनेत्स्क की स्थिति क्राईमिया से इसलिए अलग है क्योंकि वहां रूसी भाषा बोलने वालों के साथ साथ यूक्रेनियन बोलने वालों की भी बड़ी तादाद मौजूद है.

उनका कहना है कि वहां हुए कई सर्वे बताते हैं कि काफी लोग एकजुट यूक्रेन के समर्थक हैं.

लेकिन इंटरनेट पर मौजूद एक फुटेज में दिखाया गया है कि एक रूसी भाषी दोनेत्स्क असेंबली में कहा रहा है, “मैं एक संप्रभु राष्ट्र पीपल्स रिपब्लिक ऑफ़ दोनेत्स्क क निर्माण की घोषणा करता हूं.”

इससे पहले सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने दोनेत्स्क और लुहांस्क में सरकारी सैन्य इमारतों पर कब्ज़ा कर लिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार